Home प्रेगनेंसी & पेरेंटिंग मिसकैरेज से बचने के लिए खाएं शरीफा, आयरन और फाइबर से होता है भरपूर

मिसकैरेज से बचने के लिए खाएं शरीफा, आयरन और फाइबर से होता है भरपूर

by Darshana Bhawsar
fruit

गर्भवस्था एक ऐसी स्थिति होती है या अवस्था होती है जब आपको स्वयं का बहुत ध्यान रखना होता है। इस दौरान आपके गर्भ में एक नन्ही सी जिंदगी और पल रही होती है। इस समय आपको खानपान, उठने बैठने, सोने सभी का सही प्रकार से ध्यान रखना होता है क्योंकि थोड़ी सी भी लापरवाही आपको महँगी पड़ सकती है। वैसे यहाँ हम जानेंगे गर्भावस्‍था में मिसकैरेज से बचाता है प्‍यारा-सा फल शरीफा, आयरन और फाइबर से होता है भरपूर। तो क्या अपने इस फल के बारे में सुना है अगर नहीं तो चलिए देखते हैं आखिर क्या है यह फल और क्या हैं इसके फायदे।

इक्कीस सप्ताह की गर्भावस्था के दौरान आने वाले परिवर्तन

र्भावस्‍था में मिसकैरेज से बचाता है प्‍यारा-सा फल शरीफा, आयरन और फाइबर से होता है भरपूर:

पाँचवे महीने में कैसे होता है शिशु का विकास जानिए

जी हाँ गर्भावस्था में बहुत सी महिलाएँ डरी हुई होती है तो डरें न और शरीफा का सेवन करें क्योंकि यह एक ऐसा फल है जिसमें आयरन, मिनरल और फाइबर सब कुछ पाया जाता है जो मिसकेरेज को रोकता है। इसलिए आप गर्भवस्था के दौरान इस फल  का सेवन अवश्य करें। इसके बारे में आप अपनी डॉक्टर से भी सलाह ले सकती हैं।

शरीफा के फायदे:

  1. शरीफा के अन्दर विटामिन ए, विटामिन बी6 एवं विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो शिशु की आँखों को तेज़ करता है साथ ही शरीर को फ्री रेडीकल्स से मुक्त रखता है।
  2. इसमें पर्याप्त मात्रा में कॉपर और मिनरल पाए जाते हैं जो शिशु की ग्रोथ के लिए उम्दा होता है।
  3. इससे उच्च मात्रा में फाइबर होता है जिससे पाचन तंत्र उम्दा रहता है और पेट से सम्बंधित परेशानी नहीं होती।
  4. इसमें मौजूद मैग्नीशियम मांसपेशियों को मजबूती देने में सहायक होता है।

बीस सप्ताह की गर्भावस्था के दौरान आने वाले परिवर्तन

ये सभी फायदे हैं शरीफा के। लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखना भी जरुरी है जिससे यह नुकसान न पहुँचाये।

जानिए चौथे महीने में कैसे होता है शिशु का विकास

शरीफा के नुकसान:

  1. कच्चा शरीफा  खाने की गलती न करें इससे पेट ख़राब हो सकता है पाचन तंत्र बिगड़ सकता है।
  2. इसके बीज न खाएं इससे सेहत पर बुरा असर पड़ता है।
  3. जिनको शुगर है वे इस फल का सेवन न करें।

अट्ठाईस सप्ताह की गर्भावस्था के दौरान आने वाले परिवर्तन

इन बातों को ध्यान में रखते हुए ही शरीफा का सेवन करें। गर्भवती महिलाओं के लिए यह एक उत्तम फल माना गया है जो खाने में भी बहुत स्वादिष्ट होता है।

क्या आप भी बने हैं विरुस्का की तरह नए माता पिता तो ये पेरेंटिंग टिप्स आपके लिए है सबसे बेस्ट