Home कोविड-19 बच्चों के लिए आ रही है वैक्सीन ZyCoV-D, जानें इसके बारे में

बच्चों के लिए आ रही है वैक्सीन ZyCoV-D, जानें इसके बारे में

by Mahima
vaccination

भारत में कोरोनावायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान तेजी से चल रहा है। देश में सबसे पहले कोविशील्ड और कोवैक्सिन के साथ टीकाकरण अभियान की शुरुआत की गयी थी लेकिन बाद में कई दूसरी वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी गयी। अब खबर यह है कि देश में जल्द ही बच्चों के लिए भी कोरोना के वैक्सीन आ जाएगी। गौरतलब हो कि देश में अभी तक सिर्फ 18 साल से ऊपर की आयु वाले लोगों को ही कोरोना की वैक्सीन लगाई जा रही है। सरकार की तरफ से यह जानकारी देते हुए बताया गया है कि दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला ने अपनी कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D (बच्चों के लिए बनाई गयी कोरोना वैक्सीन) के इस्तेमाल के लिए भारत के ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से मंजूरी के लिए आवेदन किया है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों को हो रहे हैं दस्त या पेट दर्द तो ये उपाय अपनाएँ

उम्मीद है कि जल्द ही इस वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी सरकार द्वारा दी जाएगी। आपको बता दें कि यह वैक्सीन 12 साल की उम्र से उपर वाले बच्चों के लिए बनाई गयी है। अगर इस वैक्सीन को मंजूरी मिल जाती है तो जल्द ही देश में बच्चों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू हो सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि बच्चों के लिए बनाई गयी कोरोना की वैक्सीन ZyCoV-D तीसरी लहर के खिलाफ प्रभावी रूप से काम करेगी। चूंकि कोरोना की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के अधिक संक्रमित होने की आशंका व्यक्त की गयी है तो इस लिहाज से भी इस वैक्सीन के महत्वपूर्ण माना जा रहा है। आइये विस्तार से जानते हैं जायडस कैडिला द्वारा बच्चों के लिए बनाई गयी ZyCoV-D वैक्सीन के बारे में।

बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन ZyCoV-D

12 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए बनाई गयी इस कोरोना वैक्सीन को दवा निर्माता कंपनी जायडस कैडिला ने बनाया है। इस वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल भी पूरे कर लिए गए हैं। Zycov D कोविड वैक्सीन दुनिया की सबसे पहली ‘प्लास्मिड डीएनए’ वैक्सीन है जो कोरोना के खिलाफ प्रभावी मानी जा रही है। ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एंटीजन बनाने का काम करती है। कोरोना की इस वैक्सीन को स्टोर करने के लिए 2-8 डिग्री तापमान चाहिए होगा, इसलिए इसे भारत में कोल्ड-चेन स्थितियों के अनुकूल भी माना जा रहा है। खबरों के मुताबिक जाइडस कैडिला ने इस वैक्सीन के निर्माण में लगभग 500 करोड़ रुपये खर्च किये हैं।

कितनी असरदार है जायडस कैडिला के ZyCoV-D वैक्सीन?

ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन का तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल पूरा हो चुका है और ट्रायल के बाद आए नतीजों के मुताबिक यह वैक्सीन कोरोना के संक्रमण को रोकने में लगभग 66.6 फीसदी असरदार है। आंकड़ों के मुताबिक ZyCoV-D कोरोना वैक्सीन गंभीर संक्रमण के खिलाफ 100 फीसद प्रभावी है। वैक्सीन को बनाने वाली कंपनी जायडस कैडिला ने कहा है कि 12 साल के अधिम उम्र वाले लोगों के लिए बनाई गयी यह वैक्सीन कोरोना के नए डेल्टा प्लस वैरिएंट के खिलाफ भी प्रभावी ढंग से काम करेगी। गौरतलब हो कि इस वैक्सीन के तीसरे फेज के ट्रायल में 28,000 लोगों को इसका टीका दिया गया था, जिनमें से 1000 लोगों की उम्र 12 से 18 साल के बीच थी। इन्हीं लोगों पर हुए परीक्षण के आधार पर कंपनी ने यह जानकारी दी है।

Read More: क्या आपका शिशु पेट के बल सोता है जानिए कैसी होनी चाहिए शिशु की स्लीपिंग पोजीशन

बिना सुई की होगी यह तीन डोज वाली वैक्सीन

12 साल से अधिक उम्र वाले लोगों के लिए बनाई गयी कोरोना की ZyCov-D वैक्सीन बिना सुई वाली वैक्सीन होगी। इस वैक्सीन को जेट इंजेक्टर के माध्यम से लगाया जाएगा। इससे बच्चों में वैक्सीन लगते समय दर्द भी कम होगा। जानकारी के मुताबिक जायडस कैडिला द्वारा बनाई गयी इस कोविड वैक्सीन को दो नहीं तीन डोज में लगाया जाएगा। पहला डोज देने के 28 दिन बाद इसका दूसरा डोज दिया जायेगा और फिर 56 दिन बाद तीसरा डोज लगाया जायेगा। बताया जा रहा है कि बच्चों के लिए बनाई गयी यह कोरोना वैक्सीन देश में जुलाई-अगस्त माह तक आ जाएगी। अगर इस वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी जाती है तो देश में कोरोना के लिए लगने वाली यह पांचवी वैक्सीन होगी।

Read More: शिशु के शरीर से बाल हटाने के ये हैं 3 घरेलू उपाय, नहीं होगा कोई साइड इफेक्ट