Home लाइफ स्टाइल चर्म रोग के लिए योग का विशेष महत्व

चर्म रोग के लिए योग का विशेष महत्व

by Darshana Bhawsar
skin problem

आज के समय में हर कोई अपनी त्वचा और सुंदरता को लेकर सचेत हैं फिर भी किन्हीं कारणों से चर्म रोग जैसी समस्या उत्पन्न हो जाती है। चर्म रोग के लिए योग ने बहुत अहम् भूमिका निभाई है। चर्म रोग से योग के द्वारा मुक्ति पायी जा सकती है। योग का महत्व वैसे तो बहुत हैं क्योंकि योग के द्वारा कई जटिल बिमारियों पर नियंत्रण पाया जा सकता है। चर्म रोग के लिए योग इस प्रकार हैं:

इसे भी पढ़ें: तुलसी के फायदे

1.प्राणायाम

2. सूर्य नमस्कार

3. त्रिकोणासन

4. जानुशीर्षासन

5. उत्तानासन

इसे भी पढ़ें: खूबसूरत त्वचा पाने के लिए वरदान है विटामिन E के कैप्सूल्स

प्राणायाम:

skin problem

प्राणायाम के अंतर्गत कपालभाती, भस्त्रिका और अनुलोम विलोम को करने से हर प्रकार का चर्म रोग दूर होता है। साथ ही इससे शरीर में ऊर्जा का संचालन होता है। इसके अंतर्गत साँस को अंदर और बाहर छोड़ना होता है। एवं साँसों पर नियंत्रण करना होता है। प्राणायाम के कई फायदे हैं एवं सुबह उठ कर प्राणायाम करना बहुत है अच्छा माना जाता है। इससे मानसिक एवं शारीरिक तनाव दूर होता है।

इसे भी पढ़ें: सुबह उठते ही ये काम करने से आती है घर में सुख समृद्धि

सूर्य नमस्कार:

skin problem

सूर्य नमस्कार से किसी भी प्रकार का मानसिक और शारीरिक रोग दूर किया जा सकता है। चर्म रोग के लिए यह योग आसन का महत्व सबसे अधिक है। इस आसन को अगर प्रतिदिन किया जाये तो पर्याप्त मात्रा में पसीना आता है जिससे चर्म रोग दूर हो जाते हैं। एवं कई प्रकार के रोगों को नष्ट करने में सूर्य नमस्कार का विशेष योगदान है।

इसे भी पढ़ें: इस डांस को करने से सिर्फ 10 मिनट में घटती है इतनी कैलोरी 

त्रिकोणासन:

skin problem

चर्म रोग के लिए योग में अगर त्रिकोणासन को प्रतिदिन किया जाये तो चर्म रोग पूर्ण रूप से नष्ट हो जाता है। त्रिकोणासन से रक्तसंचार भी सही होता है जिससे विषाक्त पदार्थ शरीर से गायब हो जाते हैं। और इसके ही साथ चर्म रोगों से छुटकारा मिलने लगता है। इसको करने से त्वचा साफ़ और चमकदार होती है।

योग एंड लाइफस्टाइल को जोडें और पाएँ स्वस्थ जीवन

जानुशीर्षासन:

skin problem

जानुशीर्षासन आसन जिसे सदियों से चर्म रोगों से छुटकारा पाने के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। इसके द्वारा हार्मोन्स को संतुलित किया जा सकता है जिससे चर्म रोग दूर हो जाते हैं। मांसपेशियों में ऑक्सीजन की पूर्ति होती है। कई तरह से जानुशीर्षासन के फायदे हैं। जानुशीर्षासन से शरीर में ऊर्जा का प्रवाह होता है।

गठिया के लिए योग आसन है सबसे बेहतरीन उपाय

उत्तानासन:

skin problem

उत्तानासन से त्वचा में हो रही हर प्रकार की समस्या को दूर किया जा सकता है। आज कल के लोग त्वचा में हो रहे कील मुहांसों और उनसे होने वाले काले दागों से बहुत परेशान है। जिसे एक उत्तानासन के द्वारा दूर किया जा सकता है। इसे रोज करें और कुछ ही दिनों में आप देखेंगे कि आपकी त्वचा में होने वाली परेशानियाँ गायब हो रही हैं।

वैसे तो योग का महत्व सभी जानते हैं लेकिन अगर बात की जाये चर्म रोग के लिए योग की तो चर्म रोगों को भी योग द्वारा बहुत जल्दी और हमेशा के लिए नष्ट किया जा सकता है।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.