Home लाइफमाइंड एंड बॉडी मानसिक व्यग्रता (एंग्जायटी) पर कैसे पाएं नियंत्रण

मानसिक व्यग्रता (एंग्जायटी) पर कैसे पाएं नियंत्रण

by Mahima
mental disorders

मानसिक व्यग्रता एक ऐसा मनोविकार है जिसे हर व्यक्ति अपने जीवनकाल में अनुभव करता रहता है। मानसिक व्यग्रता एक साधारण से ‘तनाव’ से बहुत आगे की अवस्था कहलाती है, जो कि हमारे स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव डालती है, जिसके बहुत से हानिकारक प्रभाव हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: इन घरेलु उपायों से पल भर में भगाएं माइग्रेन का दर्द

आइये आज हम अपने लेख के द्वारा आपको बताएंगे कि किस प्रकार आप अपने एंग्जायटी लेवल को कम कर सकते हैं।

अपनी डाइट में मूड को खुश करने वाले खाद्य पदार्थों का समावेश करें: रिसर्च के अनुसार अगर आप अपने भोजन में ऐसे खाद्य पदार्थों को सम्मिलित करते हैं जिनमें उचित मात्रा में प्रोटीन, आयरन, उच्च एंटीऑक्सीडेंट तथा अनेक प्रकार के पोषक तत्व उपस्थित हों। तब आप तनावपूर्ण स्थितियों के दौरान का मानसिक व्यग्रता बेहतर रूप से सामना कर सकते हैं। मैग्नीशियम और पोटैशियम जैसे मिनरल्स की प्रचुर मात्रा वाले खाद्य पदार्थों (जैसे, गेंहूँ का चोकर, डार्क चॉकलेट, कद्दू के बीज, मछली और बादाम) के सेवन से आप अपने आप को तनाव की स्थिति से दूर रख पायेंगे।

इसे भी पढ़ें: माइग्रेन के कारण और इसके लक्षण

योग करें: योग व्यायाम का एक अच्छा प्रकार है जो कि आपके शरीर और चित दोनों के लिए लाभकारी होता है। योग केन्द्रों का शांत वातावरण और घंटे भर तक खुद को शांत और आत्मकेंद्रित करने से एंग्जायटी से बचा जा सकता है।

गहरी सांस लेने की एक्सरसाइज करें: जब आप चिंता में होते हैं तब धीरे-धीरे गहरी सांस लेना और छोड़ना चाहिए। इससे आपका स्ट्रेस लेवल तुरंत कम होता है। अपनी सांस को 4 गिनने तक लेने की कोशिश करें और 3 गिनने तक सांस को रोकें तथा 4 गिनने तक सांस को छोड़ दें। इस प्रकार कम से कम 8 से 10 बार करें, ऐसा करने से एंग्जायटी लेवल को तुरंत कम करने में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें: गहरी और सुकून की नींद पाने के लिए ऐसे बनाएं पिलो स्प्रे, दूर होगी थकान और तनाव

पूरी नींद लें: कम से कम 8-9 घंटे की नींद लें। इससे कम सोने के कारण एंग्ज़ायटी अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

अपने शौक में व्यस्त रहें: चिंता से बचने का सबसे अच्छा तरीका अपनी रूचि या शौक में अपने आप को व्यस्त रखना है। कुछ व्यक्ति संगीत पसंद करते हैं तो कुछ लोगों को डांस का शौक होता है, कुछ जगह-जगह घूमना पसंद करते हैं, तो कोई व्यक्ति कलाकारी का शौक़ीन होता है। अतः जब भी आप अपने आप को चिंताओं से घिरा देखें तब ऐसी अवस्था में अपने आप को अपने शौक़ीन काम में व्यस्त रखें।

इसे भी पढ़ें: छोटे परन्तु महत्वपूर्ण बातें जो हमारे तनाव को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होती हैं

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.