Home लाइफमाइंड एंड बॉडी छोटे परन्तु महत्वपूर्ण बातें जो हमारे तनाव को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होती हैं

छोटे परन्तु महत्वपूर्ण बातें जो हमारे तनाव को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होती हैं

by Mahima
causes that increase stress

आज के इस टेक्नोलॉजी के जमाने में हर किसी के बीच मे आगे भागने की दौड़ लगी हुई है। हर कोई एक दूसरे से आगे निकलने की स्पर्धा में निरन्तर प्रयास में जुटा रहता है। एक दूसरे से जीतने की दौड़ में कई बार हम इतना तनाव ले लेते हैं जो हमारे स्वास्थ को प्रभावित करता है। अधिकाशतः हम तनाव का कारण हर बार बाहरी परिस्थितियों को मानते है परन्तु ऐसा नहीं है कई बार ये तनाव हमारे खुद के द्वारा भी उत्पन्न  किया जाता है।  कई बार हमारी छोटी छोटी गलतियां हमे तनाव का शिकार बना देती है। अक्सर हम अपनी गलतियों को नहीं पहचानते और तनाव का शिकार हो जाते हैं। ऐसी कई चीजें हैं जो हम खुद करते हैं और ये चीजें तनाव पैदा कर सकती हैं। ये चीजें हमारे जीवन का हिस्सा होती हैं।

इसे भी पढ़ें: कैसे आत्मसम्मान बढ़ा कर पाएं सफलता की कुंजी

आइए जानते हैं ऐसे कौन से काम है जो रोज मर्रा के जीवन में तनाव पैदा करने के कारण बनते हैं :

अपने आप को  नकारात्मक रखना : कुछ  व्यक्तियों का स्वाभाव होता है की वह हर परिस्तिथि नकारात्मक रहते है ऐसे व्यक्ति अनजाने रूप में अपने आप को तनाव में रखते है क्योकि मजबूत आत्मविश्वास और सकारात्मक रवैया के बल पर आप बुरी से बुरी परिस्थिति को अपने हित में कर सकते हैं। आप  नकारात्मक सोच  रख कर अपने आप को भी  नकारत्मक  बना लेते हैं।  जिसके  परिणाम स्वरुप आप तनाव को बिन बुलाये न्यौता देते हैं। अतः अपने आप को सकरात्मक रख कर आप अपने तनाव को काफी हद तक कम कर सकते है।

इसे भी पढ़ें: मल्टीटास्किंग बनने से व्यक्तित्व में क्या बदलाव आते हैं

समस्या से दूर भागना : जीवन में कई बार उत्तर चढ़ाव आते रहते है कभी अच्छा तो कभी बुरा समय हमारे सामने आकर खड़ा हो जाता है । समस्याओं से दूर भागना हमारी समस्या को कम न करके बढ़ाता है अतः अपने आपको मजूत बना कर समस्या का सामना करने से आप का तनाव कम होता है। कठिन परिस्थित में समस्या को सही से समझें तथा विवेक से उस समस्या को हल  करने का प्रयास करें।  समस्या से जितना अधिक आप भागेंगे, उतना ही आपका मानसिक स्वास्थ्य प्रभावित होगा तथा समस्या भी उतनी ही अधिक बढ़ेगी।

इसे भी पढ़ें: संकेत जो बताते हैं कि आप मानसिक और भावनात्मक रूप से तनाव ग्रष्त हैं

अधिक चिंतन करना : अधिक चिंतन आप की समस्या को घटता नहीं है बल्कि उस को बढ़ाता है कई बार हम किसी एक ही विषय को अधिक  सोच कर छोटी सी समस्या को बड़ी बना लेते है। चिंतन करना अच्छा है परन्तु अति तो किसी भी चीज की अच्छी नहीं अतः कई बार अधिक चिंतन भी हमारे तनाव को बढ़ाने का कारण बनता है।

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.