Home फिटनेसयोग हृदय रोगों से दूर रखेगा योग

हृदय रोगों से दूर रखेगा योग

by Darshana Bhawsar
Natrajasana

योग आज के समय में वरदान स्वरुप ही है क्योंकि जटिल रोगों को नियंत्रित करने में भी योग सक्षम है। योग से किसी भी प्रकार का रोग दूर किया जा सकता है। और सबसे बड़ी बात इसके लिए आपको किसी भी प्रकार की दवा लेने की आवश्यकता नहीं है। अभी हम बात कर रहे हैं हृदय रोग की। तो हृदय रोग को भी योग के द्वारा दूर किया जा सकता है। हृदय रोगों से छुटकारा पाने के लिए भी योग होते हैं जैसे:

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए रामबाण हैं ये योगासन

त्रिकोणासन-

yoga

त्रिकोणासन एक ऐसा योग है जो शरीर की कई समस्याओं को दूर करता है। और हृदय रोगों के लिए यह योग बहुत ही उम्दा है। इससे हृदय सम्बंधित सभी विकार दूर होते हैं। इस आसान से वजन भी कम होता है। वैसे भी मोटापा कई बिमारियों का कारण होता है। अगर बिमारियों से खुद को दूर रखना है तो मोटापे पर नियंत्रण रखना पड़ेगा। त्रिकोणासन को करने की विधि:

1.सबसे पहले अपने पैरों को चौड़ा करें और सीधा खड़े हो जायें।

2. अपनी रीढ़ की हड्डी को मोड़ते हुए हाथ को नीचे रख लें।

3. अपना दाहिना हाथ ऊपर करें और दाहिने हाथ की उंगली की तरफ देखें।

4. 15-20 सेकंड ऐसे ही रहे फिर सीधा खड़े हो जायें।

5. इस आसान को अब दूसरे तरफ से करें और ऐसे ही कम से कम 5-7 मिनिट इसे करें।

ताड़ासन-

tadasana

ताड़ासन एक ऐसा योग है जो हृदय को मजबूत बनाता है और हृदय रोग से मुक्ति दिलाता है। गहरी साँस लेने के कारण फेफड़ा फैलता है। श्वास सम्बन्धी बीमारी के लिए भी ताड़ासन बहुत असरकारी है। ताड़ासन करने की विधि:

1.सबसे पहले आप सीधे खड़े हो जायें।

2. कमर और गर्दन बिल्कुल सीधा रखें।

3. दोनों हाथों को ऊपर करें एवं धीरे-धीरे सांस लेते हुए शरीर को पीछे की तरफ खीचें।

4. कुछ सेकंड इसी स्थिति में रखें और फिर अपनी साधारण स्थिति में वापस आ जायें।

5. कम से कम 4-7 मिनिट इस आसान को करें।

इसे भी पढ़ें: योगासन से करें हर रोग का इलाज

वृक्षासन

yoga

वृक्षासन शरीर को संतुलित करने के लिए बहुत ही अच्छा आसान माना जाता है। वृक्षासन से शरीर और हृदय संतुलित होते हैं। हृदय रोग से मुक्ति दिलाने के लिए यह योग बहुत ही उपयोगी माना गया है। वृक्षासन को करने की विधि:

1.सबसे पहले सीधे खड़े हो जायें।

2. अब अपने दाहिने घुटनें को मोड़ें और अपने दाहिने पंजे को अपनी बाएं जंघा पर रखें लें।

3. अपने हाथों को ऊपर करें और आपस में प्रणाम की मुद्रा में जोड़ लें।

4. बाएं पैर को सीधा रखें और संतुलन बनाने का प्रयास करें।

5. कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहें। थोड़ी देर बाद सामान्य मुद्रा में वापस आ जायें।

6. इस योग को 5 -7 मिनिट करें।

ये सभी योग हृदय रोग से मुक्ति दिलाने में सहायक हैं। इतना ही नहीं इनसे कई अन्य फायदे भी हैं जैसे साँस की बीमारी से राहत, मोटापा दूर करना इत्यादि।

इसे भी पढ़ें: पुश अप्स करने का सही तरीका क्या होना चाहिए ?