Home फिटनेसयोग योग से मधुमेह को करें दूर

योग से मधुमेह को करें दूर

by Darshana Bhawsar
yoga

मधुमेह क्या है मधुमेह कैसे होता है और मधुमेह होने के क्या कारण है? यह आज के समय का बहुत विशेष मुद्दा है। क्योंकि आज के समय में एक घर के अंदर कई सारे व्यक्ति इस बीमारी का शिकार हैं। मधुमेह को ही अंग्रेजी में शुगर कहते हैं। वैसे तो इस बीमारी को होने से पहले ही रोका जा सकता है लेकिन अगर आप मधुमेह का शिकार हो चुके हैं तो आप कुछ योग करके मधुमेह को नियंत्रित कर सकते हैं। मधुमेह के लिए योग को विशेष महत्व दिया गया है। मधुमेह के लिए योग के पहले हम यह जानेंगे के मधुमेह है क्या और इसके क्या लक्षण हैं?

इसे भी पढ़ें: मानव जीवन में योग का महत्व

1.मधुमेह:

मधुमेह शरीर में शर्करा की मात्रा कम या अधिक होने के कारण होती है। एवं मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जिसके कारण कई अन्य बीमारियाँ जन्म लेती हैं। मधुमेह अगर किसी को हो जाये तो यह बीमारी पीछा नहीं छोड़ती फिर इसको नियंत्रित करना ही एक विकल्प होता है। मधुमेह को नियंत्रित करना आसान होता है इसके लिए योग का सहारा लेना सबसे उत्तम माना जाता है।

yoga

2. मधुमेह का कारण एवं लक्षण:

मधुमेह होने के कई कारण होते हैं जैसे मानसिक तनाव, मोटापा, शर्करा की मात्रा का अधिक सेवन, अनियमित दिनचर्या इत्यादि। मधुमेह होने का कोई एक कारण नहीं है। मधुमेह के लिए कई कारण जिम्मेदार होते हैं। मधुमेह के लक्षण इस प्रकार हैं: भूख कम या ज्यादा लगना, अचानक आंखों में दिक्कत, पैरों में परेशानी होना, शरीर में दुर्बलता आना इत्यादि। अगर इस प्रकार के कोई भी लक्षण आपको दिखाई देते हैं तो आपको डॉक्टर को अवश्य दिखाना चाहिए। साथ ही ऐसे लक्षण दिखने पर योग और प्राणायाम को करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: हृदय रोगों से दूर रखेगा योग

3. मधुमेह के लिए योग:

मधुमेह के लिए कुछ विशेष योग होते हैं जिनके द्वारा मधुमेह पर पूर्ण रूप से नियंत्रण किया जा सकता है।

1. अर्धमत्स्येन्द्रासन

2. कपालभाति प्राणायाम

3. धनुरासन

4. पश्चिमोत्तानासन

5. शवासन

मार्जरासन

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए रामबाण हैं ये योगासन

ये सभी आसान मधुमेह के लिए बहुत ही अच्छे हैं। इनसे बहुत ही कम समय में मधुमेह जैसे रोग को नियंत्रित किया जाना संभव है। इतना ही नहीं यह सभी योग कई अन्य बिमारियों को रोकने में भी सहायक होते हैं। किसी बीमारी को होने से पहले रोकना ही एक सही तरीका है। क्योंकि किसी बीमारी के होने पर उसे रोकना मुश्किल हो जाता है कभी –कभी नामुमकिन भी हो जाता है। और मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो वंशानुगत होती है। इसलिए इसको होने से पहले ही इस पर नियंत्रण करें।