Home हेल्थआंखों की समस्या इन लक्षणों के कारण आप हो सकते हैं मोतियाबिंद के शिकार

इन लक्षणों के कारण आप हो सकते हैं मोतियाबिंद के शिकार

by Dr. Himani Singh
Symptoms of cataracts

मोतियाबिंद एक घने, बादल वाला क्षेत्र है जो आंख के लेंस में बनता है। मोतियाबिंद की  शुरुआत तब होती है  जब आंख में प्रोटीन का जमने लगता है जिसकी वजह से  लेंस की  रेटिना को  स्पष्ट चित्र  नहीं पहुंच पाते हैं। रेटिना लेंस के माध्यम से आने वाले प्रकाश को संकेतों में परिवर्तित करने का काम करता है। यह ऑप्टिक तंत्रिका को संकेत भेजता है, जो उन्हें मस्तिष्क तक ले जाता है। यह धीरे-धीरे विकसित होता है जिससे आखों की दृस्टि भी प्रभावित होती है। आमतौर पर मोतियाबिंद  दोनों  आखों में एक साथ नहीं होता है। उम्र बढ़ने के साथ मोतियाबिंद  का होना बहुत ही आम है। राष्ट्रीय नेत्र संस्थान के अनुसार, संयुक्त राज्य अमेरिका में आधे से अधिक लोगों को मोतियाबिंद है या  उनकी 80 वर्ष की उम्र तक मोतियाबिंद की सर्जरी हो चुकी होती  है।

इसे भी पढ़ें: आंखों की करें देखभाल इन घरेलू उपायों से

लेंस क्या है?

लेंस आंख का एक स्पष्ट हिस्सा है जो रेटिना पर प्रकाश, या एक छवि को केंद्रित करने में मदद करता है। आंख के पीछे स्थित  रेटिना प्रकाश के प्रति संवेदनशील ऊतक के रूप में काम करता है। आंख में, प्रकाश पारदर्शी लेंस से रेटिना में होकर गुजरता है। जब  प्रकाश  एक बार  रेटिना तक पहुंचता है, तो प्रकाश तंत्रिका संकेतों में बदल दिया जाता है यह तंत्रिका संकेत मस्तिष्क को भेजे जाते हैं।साफ़  छवि  प्राप्त करने के लिए लेंस को रेटिना के लिए स्पष्ट होना चाहिए। यदि लेंस में बादल जैसी छवि बन जाती है  तो आपके द्वारा देखी गई छवि धुंधली बनने लगती है।

इसे भी पढ़ें: मोतियाबिंद होने के कारण और इसके प्रकार

मोतियाबिंद के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • दृष्टि से धुंधला दिखना
  • रात को देखने में कठिनाई का अनुभव होना
  • रंगों में फीकापन दिखाई देना
  • चकाचौंध रौशनी में देखने में परेशानी होना
  • प्रभावित आँख से दोहरा दिखाई देना
  • चश्मे के नंबर में बार बार बदलाव आना
  • चश्मा या कॉन्टैक्ट लेंस के प्रयोग में परेशानी का अनुभव होना।

डॉक्टर से लें परामर्श :  यदि आपको  अपनी दृष्टि में बदलाव दिखाई देता है तो आपको अपने डॉक्टर के पास आखों के चेकउप  के लिए जाना चाहिए। वह आपके आखों में  आई ड्रॉप डालेगा  ताकि वह आपकी पुतलियों  को पतला कर सके।आपका डॉक्टर आपकी पूरी आंखों की जांच  कई अलग-अलग परीक्षण द्वारा  करेगा। इन परिणामों के आधार पर, वह आपको बताएगा कि आप मोतियाबिंद से ग्रषित हैं या नहीं ।

इसे भी पढ़ें: आंखों के भारीपन और थकावट को दूर करने के आसान उपाय

नोट :  मोतियाबिंद एक ट्यूमर नहीं है, न ही यह एक “फिल्म” या ऊतक की  वृद्धि है जो कॉर्निया या आंख के सामने की सतह पर विकसित होती है। हालांकि मोतियाबिंद के अधिकांश भाग नग्न आंखों से दिखाई नहीं देते हैं, लेकिन कुछ ऐसे उदाहरण हैं जिनमें पुतली सफेद दिखाई देती है क्योंकि लेंस पूरी तरह से घने मोतियाबिंद से घिरा  होता है।

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.