Loading...

मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के इलाज में सेक्स हार्मोन की भूमिका

by Himani Singh
मानसिक स्वास्थ्य

अधिकांशतः देखा जाये तो हम सभी ने सेक्स करने से होने वाले शारीरिक लाभों के बारे में सुना होगा जैसे कि यह प्रतिरक्षा प्रणाली में मदद करता है, रक्तचाप को कम करता है, कैलोरी जलाता है आदि। लेकिन क्या आप सेक्स करने से होने वाले मनोवैज्ञानिक लाभों के बारे में जानते हैं ? यदि नहीं तो यह हमरा आर्टिकिल आपको इससे होने वाले लाभों की सूची से अवगत कराने में मददगार होगा।

इसे भी पढ़ें: गैस की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय

आइये जानते हैं सेक्स करने से होने वाले मनोवैज्ञानिक लाभों के बारे में :

मानसिक स्वास्थ्य

 तनाव मुक्ति रखने में मददगार :

शारीरिक अंतरंगता मस्तिष्क में डोपामाइन,एंडोर्फिनस और ऑक्सीटोसिन नामक होर्मोनेस को ट्रिगर करती है, जो हमे तनावमुक्त रखने में निम्न प्रकार मदद करती है :

इसे भी पढ़ें: मूंगफली के तेल में बनाएं खाना, डायबिटीज और दिल की बीमारियां रहेंगी दूर

 डोपामाइन – यह हॉर्मोन अपने आपको स्वतः प्रेरित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है साथ ही
ध्यान केंद्रित करता है और आम तौर पर प्रेरणा को बढ़ाता है।

 एंडोर्फिन –ओर्गास्म एंडोर्फिन हॉर्मोन को निकलने के लिए प्रेरित करता है, यह हॉर्मोन मस्तिष्क
द्वारा अच्छा महसूस कराने के लिए जिम्मेदार होता है ,जो के प्राकृतिक दर्द और तनाव से लड़ने के
रूप में कार्य करता है।

 ऑक्सीटोसिन – यह "कडल हार्मोन" के रूप में जाना जाता है, जो भावनाओं को ट्रिगर करता है।

संभोग के दौरान, शरीर में रक्त का उच्च स्तर मस्तिष्क में दबाव को दूर करने का कार्य करता है यही कारण है कि अधिकांश लोग संभोग के बाद अधिक आराम महसूस करते हैं। इसलिए, एक सक्रिय सेक्स लाइफ आपको फिट रहने, बीमारियों से दूर रहने, आपके स्वास्थ्य की स्थिति को बढ़ाने और तनाव को मिटाने का अच्छा तरीका साबित हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: डायबिटीज में बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल हो सकता है आपकी सेहत के लिए हानिकारक

 अवसाद को दूर करने में मददगार :

एक खराब सेक्स लाइफ अवसाद को बढ़ावा दे सकती है। ऐसे में यदि आपको प्रतीत हो की आप अवसाद की और अग्रसर हो रहे हैं तो अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर करना आपके लिए लाभकारी हो सकता है क्योकि नियमित रूप से सेक्स करने से अस्थायी रूप से फील-गुड न्यूरोकेमिकल्स को मस्तिष्क से स्रावित होने के लिए बढ़ावा मिलता है, जैसे कि ऑक्सीटोसिन,एंडोर्फिन और डोपामाइन। यह होर्मोनेस मस्तिष्क में आनंद केंद्रों को सक्रिय करने में मददगार होते हैं।

 दिमाग को अन्य परेशानियों से दूर करता है :

रोजमर्रा की जिंदगी में हम जाने कितने तनाव से गुजरते हैं ऐसे में कुछ समय के लिए भी अगर हम तनाव को कम कर पाएं तो यह रामबाड़ साबित होता है ऐसे में सेक्स तनाव को दूर करने का अस्थायी तरीका साबित हो सकता है। सेक्स करते समय मस्तिष्क को खुश करने वाले और शरीर को रिलैक्स करने वाले होर्मोनेस निकलते हैं जो कि कुछ समय के लिए आपको अपने निजी जीवन के तनावों से दूर रखने में
मददगार साबित होते हैं।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं में होने वाली मेनोपॉज की अवस्था क्या है और कितने चरणों में होती है ?

Loading...

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.