शेयर करें

पुराने समय से ही यह माना जाता है की महिलाओ का अधिक उम्र में विवाह करना ठीक नहीं क्योकि अधिक उम्र में विवाह करने से संतान पैदा करने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन चिकित्सकों के अनुसार 40 या इससे अधिक उम्र में मां बनने का विचार करना गलत नहीं है। आज की नारी सशक्त है वह अपने  पैरों पर खड़े होकर अपने जीवनसाथी के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर चलना चाहती है। उचित शिक्षा लेने और अच्छा भविष्य वनाने की भाग दौड़ में महिलाओं के विवाह करने की आयु अब 35 साल या इससे भी अधिक हो गयी है।

इसे भी पढ़ें: प्रेगनेंसी में करें इन जूस का सेवन, शिशु के विकास के लिए होगा फायदेमंद

स्त्री रोग विशेषज्ञ चिकित्सक अमिता शाह का के अनुसार 40 या इससे अधिक की उम्र में मां बनने वाली महिलाओं की संख्या पिछले साल की तुलना में 20 से 30 % अधिक हुई है। इनमें अधिकतर महिलाएं उच्च मध्यम वर्ग की है और करियर को पहला महत्व देती है। अधिक उम्र में मां बनने का विचार अब सिर्फ पश्चिमी देशों की महिलाओ तक ही सिमित नहीं रह गया है बल्कि  भारतीय महिलाएं भी इसे अपना रही हैं। आज कल अधिकतर महिलाये उचित जीवनसाथी मिलने में देरी और फिर शादी के बाद जीवन में सही प्रकार से बस जाने के बाद ही मां बनना पसंद करती है। अगर हम फिल्म जगत की ओर देखे तो, हैले बैरी, सुजान सारानडोन, सेलिन डियोन, फराह खान और डायना हेडन जैसी प्रसिद्ध अभिनेत्रिया भी  40 साल के बाद मां बन चुकी है। अब ये चलन केवल फिल्मी सितारों तक ही सीमित नहीं रह गया है। आम महिलाये जो की करियर ओरिएंटेड वह भी यह शैली अपना रही है।

 

इसे भी पढ़ें: डिलीवरी के बाद महिला के लिए कितना उपयोगी होता है घी का सेवन

जो महिलाये अधिक उम्र में माँ बनती है उनमें प्रेग्नेंसी के समय कई समस्याएं हो सकती है, जैसे गर्भपात, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह और ऐसे बच्चे को जन्म देने का खतरा जिसका वजन कम हो।  डॉक्टर के अनुसार महिलाये माँ बनने में जितना लेट करती है उनको उतनी ही अधिक परेशानिओ का सामना करना पड़ता है।

जैसे की उम्र बढ़ने पर अंडे कम मात्रा में बनते है, गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है और बच्चे को जन्म देने से संबंधित परेशानियां अधिक हो जाती हैं। अधिकतर केसेस में उनको IVF जैसे इलाज का सहारा लेना पड़ता है। लेकिन हर चीज़ के दो पहलू होते है जहां अधिक उम्र में माँ बनना कई समस्याओं को न्यौता देना है वही पर 40 की उम्र में माँ वनने वाली महिलाये वहुत अधिक जिम्मेदार होती है ओर पूरी जिमेदारी के साथ अपने बच्चे का पालन करने में सक्षम होती है। अधिक उम्र की महिलाये वहुत अनुभवी, सक्षम और जिम्मेदार होती हैं। तो हम कह सकते है की जहां अधिक उम्र  में माँ वनने के कई जैविक नुकसान हैं, तो  वही दूसरी ओर कई सामाजिक लाभ भी होते है।

रिपोर्ट: डॉ. हिमानी