Home फिटनेस सर्दियों की सुस्ती और आलस भागने के लिए करें ये 4 योगासन

सर्दियों की सुस्ती और आलस भागने के लिए करें ये 4 योगासन

by Mahima
Winter season

नई दिल्ली। सर्दियां ज्यादातर लोगों को आलसी और सुस्त बना देती है। ऐसे में अक्सर लोग योगा और एक्सरसाइज करने की हिम्मत नहीं जुटा पाते। कुछ ऐसे आसान योगासन हैं, जिनकी मदद से आप सर्दियों की इस सुस्ती और आलस को दूर कर सकते हैं। खास बात ये है कि ये योगासन आपके शरीर को अंदर से गर्म करेगें और आपको एक एनर्जेटिक सुबह की शुरुआत देगें। जब आप योग के साथ अपनी सुबह कि शुरूआत करते हैं तो, यह सुनिश्चित हो जाता है कि आप दिन भर ऊर्जावान रहेंगे। इसलिए अगर आप सर्दियों की सुस्ती को दूर भगाना चाहते हैं, तो हफ्ते में कम से कम तीन बार योग जरूर करें। इसकी शुरुआत पहले वॉर्म अप से करें और उसके बाद ये 4 योगासन करें।

इसे भी पढ़ें: रोगों को भगाइए, प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाइए

आपकी कसरत का सबसे महत्वपूर्ण पहलू होता है कि गर्मजोशी के साथ दिनचर्या की शुरूआत हो। एक अच्छे वार्म अप रूटीन के साथ कम से कम 10 से 15 मिनट कि कसरत से न केवल आपके प्रदर्शन में सुधार होता है बल्कि यह आपको चोटों से मुक्त रहने में भी मदद करता है। एक ठंडी सुबह में एक अच्छा वार्म अप शरीर के सिस्टम को भीतर से गर्मी बनाता है ताकि आपकी मांसपेशियां किसी भी तरह के आसन में आने के लिए तैयार हों सकें। फिर इन योगासनों का अभ्यास करें।

इसे भी पढ़ें: गोमुखासन से गठिया को कहिए ना

1.सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार का अभ्यास सुबह जल्दी किया जाना चाहिए क्योंकि इस दौरान शरीर को अधिकतम लाभ पहुंचाता है। पूर्ण शरीर की कसरत, सूर्य नमस्कार लाभकर्ता को शारीरिक और मानसिक शक्ति प्रदान करता है। यह आपके शरीर को आज्ञा देता है, आपकी ऊर्जा को संतुलित करता है और आपको अधिक दिमागदार बनाता है। सूर्य नमस्कार फ्रोजन शोल्डर के उपचार में भी उपयोगी होता है और आपकी मांसपेशियों और जोड़ों को मजबूत करता है।

इसे भी पढ़ें: बच्चों के लिए क्यों जरूरी है टीकाकरण ?

2.पस्चिमोत्तानासन

अपने पैरों को सामने की तरफ फैलाएं।
अपनी बाहों को ऊपर की ओर उठाएं।
अपनी पीठ सीधी रखें।
अपने निचले शरीर पर अपने ऊपरी शरीर को रखने के लिए सांस छोड़ते हुए कूल्हे को आगे की ओर झुकाएं।
अपनी हाथ उंगलियों से अपने बड़े पैर की उंगलियों को पकड़ने की कोशिश करें।

3.उष्ट्रासन

योगा मैट पर घुटने रखें और अपने हाथों को कमर पर रखें।
जब तक हाथ सीधे नहीं होते तब तक अपनी हथेलियों को अपने पैरों पर लगाएं कि कोशिश करें।
सांस छोड़ें और धीरे-धीरे शुरुआती मुद्रा में वापस आएं।

इसे भी पढ़ें: क्या अस्थमा है हृदय रोग होने का लक्षण

4.धनुरासन (Dhanurasana)

आसन का गठन करने के लिए अपने पेट के बल लेटें।
अपने घुटनों को मोड़ें और हथेलियों से अपनी एड़ियों को पकड़ें।
जितना हो सके अपने पैरों और भुजाओं को ऊपर उठाएं।

कुछ देर तक आसन में रहें। कम से कम 5 मिनट के ध्यान के साथ अपने सुबह की शुरुआत करें। ध्यान रहे कि सर्दियां शरीर को कठोर बना सकती हैं जिससे आपके शरीर को बचाना जरूरी है। सूर्य नमस्कार जैसे अभ्यास शरीर को अंदर से गर्म करते हैं जिससे आप ऊर्जावान महसूस करते हैं और दिन भर उत्साही रहतें हैं। आप अपने अभ्यास में ध्यान अभ्यास के साथ-साथ श्वास तकनीक के लिए प्राणायाम को भी शामिल कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: धनुरासन क्या है और उसके लाभ

योगा के इन लाभों का फायदा उठाने के लिए आपको नियमित रूप से इस आसनों का अभ्यास करना चाहिए। ये सभी आपको दिन भर तनावमुक्त और तन और मन, दोनों से से शांत रहने में मदद करेंगे। तो, खुश रहें, अपना ख्याल रखें और एक तनावमुक्त और शांत जीवन के लिए हर रोज योग करने की कोशिश करें।