Loading...

सुबह की जॉगिंग में उल्टा दौड़कर करें जल्दी वजन कम

by Mahima

अगर आप अपने वजन को कम करने के लिए जिम जाकर अनेको प्रकार की कठिन  से कठिन एक्सरसाइज अपना रहें हैं, तो दौड़ने से अच्‍छी एक्‍सरसाइज  कोई नहीं हो सकती। यह एक बहुत ही लाभदायक कार्डियो एक्‍सरसाइज है जो कि वजन कम करने, हृदय रोग को दूर रखने और फेफड़ों को दुरूस्‍त रखने में महत्वपूर्ण  भमिका निभाती  है। परन्तु यह दौड़ अगर ट्रेडमिल पर न होकर खुले मैदान में हो तो और भी फयदेमन्द होगी ।रोज सुबह दौड़ लगाने से आपका पेट सही रहेगा, डिप्रेशन दूर रहेगा और आपका मूड हमेशा अच्‍छा बना रहेगा। खुले मैदान में दौड़ना ट्रेडमिल पर दौड़ने से बहुत बेहतर और लाभकारी होता है। परन्तु क्या आप जातने हैं की सीधे दौड़ने की बजाय यदि आप उल्टा दौड़गें तो यह आपके लिए और भी अधिक असरदार होगा।

इसे भी पढ़ें: रोजना करें गोरक्षासन, नहीं होंगी शरीर में यह परेशानी

वैज्ञानिको द्वारा हुई एक खोज से यह बात सामने आयी है कि उल्टी दिशा में सुबह दौड़ने से अधिक लाभ होता है। इस खोज में 26 महिलाओं को शामिल किया गया जो कि हर रोज 15 से 45 मिनट तक उल्टी दौड़ लगाती थी। ऐसा इन महिलाओं ने लगभग 6 हफ्ते तक किया। इस रिसर्च में पाया गया कि 6 हफ्तों में इन महिलाओं ने लगभग 2.5 फीसदी वजन कम किया। इसके साथ ही वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि उल्टा दौड़ने से घुटने में होने वाली इंजरी का खतरा भी कम हो जाता है।

इसे भी पढ़ें: अगर आप हैं कमर दर्द से परेशान… तो करें ये काम

सीधे दौड़ने में  पहले एड़ी जमीन की तरफ पड़ती है और  मांसपेशियां ऊर्जा छोड़ती हैं जिसकी वजह से दौड़ने वाले इंसान को आगे की ओर जुकना पड़ता है जो की गर्दन तथा कमर दर्द की समस्या को बढ़ावा दे सकता है । दूसरी तरफ उल्टा दौड़ने पर हम कमर को एकदम सीधा करके दौड़ते है, क्योकि ऐसी अवस्था में हमें ज्यादा सीधा खड़ा रहना होता है और इसी posture को दौड़ते समय  maintain भी करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें: योग अपनाएं, इन बीमारियों को अपने से दूर भगाएं

यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ साइंस के मुताबिक, उल्टी दौड़ में सीधी दौड़ के मुकाबले हर कदम पर मांसपेशियां ज्यादा काम करती हैं।  इतना ही नहीं, उल्टी दौड़ में 30 फीसदी अधिक कैलौरी की खपत होती है अधिक  कैलौरी की खपत यानी की तेजी से वजन  का कम होना। जब हम सीधी दिशा में दौड़ते है तब हमारा दिमाग एक जगह स्थिर नहीं होता है। जबकि उल्टा भागने पर हमारा दिमाग उसी में उलझा रहता है। इसलिए आपको हर दिन एक्साइटिंग और कुछ नया सा लगता है।

रिपोर्ट: डॉ. हिमानी

Loading...

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.