शरीर की  प्रतिरक्षा प्रणाली को बूस्ट करने वाले पोषण तत्व 

by Dr. Himani Singh
vitamin

प्रतिरक्षा प्रणाली आपके शरीर की प्राकृतिक रक्षा प्रणाली होती है। यह हमारे  की कोशिकाओं, ऊतकों और अंगों का एक जटिल नेटवर्क है जो हमारे  शरीर पर बाहर से आक्रमण करने वाले बैक्टीरिया, वायरस, परजीवी, यहां तक कि कवक आदि से हमारे शरीर को रक्षा प्रदान कराने में मदद प्रदान करती हैं ।

इसे भी पढ़ें: कारण जिनसे मैडिटेशन को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए

आइये किस प्रकार अपने शरीर की  प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाया  जा सकता है :    

एंटीऑक्सिडेंट:

एंटीऑक्सिडेंट प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए महत्वपूर्ण जाने जाते हैं।  डार्क चॉकलेट में थियोब्रोमाइन नामक एंटीऑक्सिडेंट पाया जाता है, जो  हमारे शरीर की कोशिकाओं को मुक्त कणों से बचाकर  हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को  मजबूत बनाने में मदद प्रदान करता है। मुक्त कण  हमारे शरीर में अस्वास्थ्यकर भोजन, प्रदूषण या अल्ट्रा वायलेट किरणों द्वारा उत्पन्न  होते हैं।  ये मुक्त कण शरीर की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाते हैं और शरीर को कमजोर बनाकर बीमार करने में महतवपूर्ण भूमिका अदा करते हैं।डार्क चॉकलेट कैलोरी और संतृप्त वसा में उच्च होती है अतः थोड़ी ही मात्रा  में इसका सेवन लाभकारी माना जाता है।

Loading...

विटामिन सी :

vitamin

विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली बूस्टर के रूप में महतवपूर्ण स्थान रखता है। विटामिन सी की कमी होने से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली पड़  जाती है जो आपको  बीमार करने का कारण बनता है। विटामिन सी को सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाने  में मददगार होता है जो कि संक्रमण से लड़ने की कुंजी मानी जाती हैं। हमारे शरीर द्वारा विटामिन सी  का उत्पादन  नहीं होता  है। अतः इसकी पूर्ति हमे खाद्य पदार्थों द्वारा करनी पड़ती है।  विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों में संतरे, अंगूर, कीनू, स्ट्रॉबेरी, नीबू, मिर्च, पालक, चकोतरा और ब्रोकोली शामिल होते हैं। अतः नियमित रूप से इनका सेवन आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मददगार होता है।

इसे भी पढ़ें: कितना प्रोटीन, वसा तथा कैलोरी होना चाहिये एक लीटर दूध में ?

विटामिन ई:

विटामिन ई शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट का एक समूह है जो आपकी कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव तनाव से  बचाने में महतवपूर्ण भूमिका निभाता है अतः शरीर में पर्याप्त विटामिन ई का स्तर होना अति आवश्यक होता है। यदि आपके शरीर में विटामिन ई पर्याप्त  मात्रा में नहीं हैं, तो आपका शरीर अनेकों बिमारियों से संक्रमित हो सकता है। आप अपनी आंखों  में या मांसपेशियों में  कमजोरी  का अनुभव कर सकते हैं। विटामिन ई एंटीऑक्सिडेंट गुणों के साथ वसा में घुलनशील यौगिक होता है।  पर्याप्त विटामिन ई  के सेवन से प्रतिरक्षा प्रणाली और रक्त  वाहिकाओं को स्वस्थ रखा जा सकता है साथ ही त्वचा में चमक भी लाई  जा सकती है।  सूरजमुखी के बीज, बादाम, मूंगफली, एवोकाडो, पालक आदि विटामिन ई  से पूर्ण होते हैं अतः इनका सेवन लाभकारी होता है।

Loading...

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.