Home लाइफ स्टाइलखानपान गेहूं के जवारे घर में उगाकर पाएं अनेकों बिमारियों से निजात

गेहूं के जवारे घर में उगाकर पाएं अनेकों बिमारियों से निजात

by Mahima
wheat

प्रकृति ने हमे अनेकों नियामतें खजानों के रूप में प्रदान की हैं। जिसमें से एक नाम गेहूं के जवारे का  है। देखा जाये तो यह  संजीवनी बूटी  से कम नहीं है, क्योंकि ऐसा कोई रोग नहीं, जिसमें इसका सेवन लाभदायक नहीं होता। गेहूं के जवारों में अनेक पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें पाया जाने वाला प्रमुख तत्व क्लोरोफिल होता है। क्लोरोफिल को केंद्रित सूर्य शक्ति कहा जाता है। गेहूं के जवारे को हम जूस, पाउडर और टेबलेट किसी भी रूप में प्रयोग कर सकते हैं। प्रतिदिन गेहूं के जवारे का ताजा जूस बना कर पीना लाभकारी होता है।

इसे भी पढ़ें: पौधे लगाकर अपने घर की बालकनी को दें सुन्दर रूप

गेहूं के जवारे के सेवन से होने वाले लाभ :

  • नियमित रूप से इसके रस के सेवन से शरीर में उचित मात्रा में ऊर्जा का प्रवाह होता है, जिससे शरीर का स्टैमिना और एनर्जी दोनों बढ़ता है।
  • इसमें प्रोटीन, विटामिन, फाइबर, कैल्शियम और कार्बोहाइड्रेट्स उचित मात्रा में पाए जाने के कारण यह कैंसर जैसे गंभीर रोग के इलाज में भी बहुत लाभकारी होता है।
  • इसके रस के सेवन से एसिडिटी, गठिया, मधुमेह, बवासीर, खासी, दमा, नेत्ररोग, म्यूकस, उच्च रक्तचाप, वायु विकार, पायरिया, पथरी, दिल की बीमारी, गाल ब्लैडर स्टोन, लकवा, पीलिया जैसी बिमारियों का भी खात्मा होता है।
  • स्किन प्रॉब्लम और बालों की समस्या में भी इसका सेवन लाभकारी होता है।
  • गेहूं के जवारे का नियमित सेवन रक्त संचार संबंधी रोगों, रक्त की कमी, उच्च रक्तचाप, सर्दी, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस जैसी बिमारियों का खात्मा करने में भी उपयोगी होता है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा होना चाहिए घर का नक्शा

गेहूं के जवारे का रस कैसे तैयार करें:

जवारों से रस निकालने के लिए आठ से दस गेंहू के जवारे की पत्तियां जड़ से काट कर पानी से अच्छे से धो लें, फिर इनके जड़ वाला भाग और डंठल काटकर अलग कर दें। इसके बाद इनकी पत्तियों को पानी से दो-तीन बार धो कर मिक्सर से पीसकर इसका रस निकाल लें। परन्तु इस बात का ध्यान रहे कि जूस निकालने के बाद इसे तुरंत पीना ही लाभकारी होता है और इस बात का विशेष ध्यान रखें की जूस को चाय की तरह सीप ले कर ही पिएं, एक सांस में ना पिएं। जूस निकालते समय आप इसमें आंवला, नीम, गिलोय, तुलसी, शहद और अदरक भी डाल सकते हैं। इनके प्रयोग से जूस के गुण और भी अधिक बढ़ जाते हैं। परन्तु ध्यान रखें इसमें नींबू और नमक का प्रयोग बिल्कुल भी ना करें।

इसे भी पढ़ें: मानसून के मौसम में आकर्षक लगने के लिए अपनाए ये टिप्स

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.