Home Uncategorized पेट की गेस का रामबाण इलाज क्या है?

पेट की गेस का रामबाण इलाज क्या है?

by Naina Chauhan
gas problem

पेट में गैस बनना एक आम समस्या है I आजकल की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में हम अपने खान पान का ठीक से ध्यान नहीं रख पाते I जिससे अक्सर पाचन तंत्र में गड़बड़ी हो जाती है I जिससे अपचन और गैस बनना, पेट फूलना, पेट भरा महसूस होना, सीने में जलन, डकार आना, जी-मिचलाना, उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देते है |

इसे भी पढें: मटन खाने के बाद किन चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए?

पेट में गैस दो मुख्य तरीकों से एकत्रित होती है। खाने या पीने के दौरान हवा निगलने से पाचन तंत्र में ऑक्सीजन और नाइट्रोजन जमा हो सकती है। दूसरा, जैसा कि आप भोजन को पचाते हैं, हाइड्रोजन, मीथेन और कार्बन डाइऑक्साइड जैसी पाचन गैसें एकत्रित होती हैं। किसी भी विधि से पेट फूल सकता है।

gas problem

आयुर्वेद का मानना है की पेट ठीक न होना सभी बीमारियों का मूल कारण है | इसलिये आयुर्वेद में पाचन पर खास ध्यान दिया गया है | अपचन के लिए कई तरह की दवाईयाँ उपलब्ध है | कुछ आसानी से उपलब्ध और आम दौर पर प्रयोग किये जानेवाले इलाज है :

अजवाइन

पाचनतंत्र पर काम करनेवाली यह एक उपयुक्त दवाई है जो अपचन से निर्माण होनेवाली गैस को निकालने में मदत करती है |

इसे भी पढ़ें: मॉर्निंग या ईवनिंग वर्कआउट में से प्रभावशाली कौन सा है ?

अदरक

अदरक औषधि गुणों से भरपूर है | अदरक को कूचकर इसके रस का नियमित सेवन करने से पाचन तंत्र दुरुस्त रहता है | भोजन के पूर्व अदरक के छोटे टुकड़े और सैधा नमक चबाकर खाना न सिर्फ भोजन में रूचि बढ़ाता है बल्कि उसे पचाने में भी मदत करता है |

नीबू के रस में १ चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर सुबह के वक्त खाली पेट पिए।

gas

पुदीने की पत्तियों को उबाल कर पीने से गैस दूर होने में मदत मिलती है।

छाछ

एक ग्लास छाछ में एक चुटकी काला नमक और थोड़ी सी अजवाइन मिलाएं और रोजाना खाने के बाद इसका सेवन करे|

साथ में इन चीजो का भी रखे ध्यान

खाना समय पर और ठीक से चबाकर खाएं |

२ अपच होने पर तली हुई,भारी, खट्टी और विशेष रूप से बाहर की चिजों का परहेज़ करें।

इसे भी पढ़ें: चावल की तासीर कैसी होती है और इसे खाने के क्या-क्या आयुर्वेदिक फायदे हैं?

३ आहार में बड़ी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट हो जिन्हें पचाना मुश्किल हो तो उन्हें बदलने का प्रयास करें। पचाने में आसान कार्बोहाइड्रेट, जैसे कि आलू, चावल और केला, अच्छे विकल्प हैं।

४. खाने के तुरंत बाद लेटना या बैठना नहीं चाहिए | रात के भोजन के बाद अवश्य टहलना चाहिए।

५. व्यायाम पाचन को बढ़ावा देने में मदद करता है और पेट फूलने से बचा सकता है।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.