Home फिटनेसवजन बढ़ाना वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपचार

वजन बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उपचार

by Darshana Bhawsar
Published: Last Updated on
वजन बढ़ाना

आज के समय में कुछ लोग वजन बढ़ाने के लिए उपचार ढूंढते हैं तो कुछ वजन घटने के लिए। लेकिन अगर देखा जाये तो मोटा या पतला होना वंशानुगत होता है। फिर भी कई बार ऐसा होता है कि ज्यादा खाने या कम खाने या कुछ अन्य कारणों के वजह वजन कम या ज्यादा होता है। वजन बढ़ाने और वजन घटाने दोनों के लिए ही आयुर्वेदिक उपचार उपलब्ध हैं। आयुर्वेद फॉर वेट गेन के अन्दर कई तरह के आयुर्वेदिक उपचार आते हैं जैसे:

इसे भी पढ़ें: प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से छुटकारा दिलाएगा गुड़, जाने कैसे

दूध केला या बनाना शेक:

दूध में केला या बनाना शेक मोटा होने के लिए सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपचार है। यह वजन बढ़ाने में बहुत मदद करता है। रोज सुबह व्यायाम के बाद दूध केला या बनाना शेक का सेवन करना चाहिए इससे ताकत भी आती है।

वजन बढ़ाने

सिंघाड़ा:

सिंघाड़ा भी दुबलेपन को दूर करने के लिए एक कारगार इलाज है इसके रोज सेवन से दुबला व्यक्ति ताकतवर और मोटा होने लगता है। इसे आयुर्वेद फॉर वेट गेन प्रोडक्ट कह सकते हैं यह आयुर्वेदिक उपचार में वजन बढ़ाने का सबसे सरल उपाय है।

इसे भी पढ़ें: प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से छुटकारा दिलाएगा गुड़, जाने कैसे

नारियल:

नारियल भी मोटा होने का एक अच्छा आयुर्वेदिक उपचार है। रोज कच्चा या सूखा नारियल का सेवन करने से भी वजन बढ़ता है। यह आयुर्वेद फॉर वेट गेन आयुर्वेदिक उपचार में एक अच्छा उपचार माना गया है। नारियल आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

दूध में शहद:

गरम दूध में शहद मिलकर पीने से भी वजन बढ़ाने में सहायता मिलती है। इससे बहुत ही जल्दी वजन बढ़ता है और इसके किसी भी प्रकार के विपरीत परिणाम नहीं है। आयुर्वेद फॉर वेट गेन में यह उपचार बहुत फायदेमंद हैं।

इन सब के अलावा अगर घी, दूध, मक्खन, च्वनप्राश का नियमित रूप से सेवन किया जाये तो भी वजन बढ़ाने में सहायता मिलती है। यह सभी आयुर्वेदिक उपचार बहुत उपयोगी हैं जिनसे वजन निश्चित रूप से बढ़ता है और शरीर को पोष्टिकता मिलती है और शरीर में उर्जा एवं ताकत आती है। कभी-कभी वेट बढ़ाने के लिए कई प्रकार के प्रोटीन पाउडर का सेवन किया जाता है लेकिन ये प्रोटीन पाउडर शरीर को बहुत नुक्सान पहुंचाते हैं। इनके सेवन से बचना चाहिए और आयुर्वेदिक उपचार से अपना वजन बढ़ाने या घटाने की कोशिश करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से छुटकारा दिलाएगा गुड़, जाने कैसे