शेयर करें

नई दिल्ली। आज के मॉडर्न युग में कॉफ़ी और बियर पीना आम बात हो गयी है अब ये लोगो के इंटरेस्ट पर डिपेन्ड करता है। जैसे कुछ लोग कॉफ़ी पीना पसंद करते है और कुछ लोग बियर पीना पसंद करते है और कुछ ऐसे भी है जो अलग अलग समय पर अलग अलग ड्रिंक्स पीना पसंद करते है। वैज्ञानिको ने सिद्ध किया है की उचित मात्रा में कॉफ़ी और बियर पीना दोनों ही काफी फायदेमंद है। स्वास्थ्य और पोषण एक दूसरे के पूरक है हमारी पसंद चाहे कॉफी हो या बीयर दोनों को उचित मात्रा में लेने से उचित पोषण शरीर को मिलते रहते है। बिहेवियर ब्रेन रिसर्च जर्नल में प्रकाशित शोध के अनुसार बीयर में मौजूद फ्लेवनॉयड्स दिमाग की सेहत के लिए फायदेमंद होता है। शोधकर्ताओं ने ये बात भी सामने लायी है की बीयर में पाया जाने वाला जैंथोह्यूमोल नामक तत्व याददाश्त को बेहतर और दिमाग को सजग रखता है। दूसरी तरफ शोधो से यह भी पता चला है की जो लोग कॉफी के द्वारा कैफीन लेते है उनमे Parkinson’s का ख़तरा कम रहता है। रिसर्च द्वारा यह भी सिद्ध हुआ है की कॉफ़ी में डिप्रेसन कम करने वाले तत्व होते है जिसकी वजह से कॉफ़ी पीने से मस्तिष्क में डोपामाइन की मात्रा बढ़ती है। खोजो द्वारा यह सिद्ध हो चूका है की डोपामाइन एक ख़ुशी देने वाला हॉर्मोन है जो आपको खुश रखने में मदद करता है।

देखा जाए तो ऐसे लोग जो मेन्टल वर्क प्रेसर से घिरे रहते है इन लोगो को अपने आप को बूस्ट अप रखने के लिए कुछ ऊर्जा देने वाले पेय पदार्थो का सेवन समय समय पर करते रहना जरुरी होता है। वैसे तो कामकाजी लोगों के लिए बीयर और कॉफी दोनों ही मददगार है। कॉफी में पाया जाने वाला कैफीन आपकों काम करने के लिए एनर्जी देता है तो वहीं बीयर व्यक्ति के दिमाग पर गहरा असर डालती है और वह आपको रचनात्‍मक बनाती है। अतः हम कह सकते है की अगर हमको काम करने के लिए ऊर्जा की जरुरत है तो कॉफ़ी पीना उचित होगा और अगर हमारा काम रचनात्‍मक कार्यो से जुड़ा है और आप अपने दिमाग में अच्‍छा आइडिया लाना चाहते हैं या कुछ क्रिएटिव करना चाहते हैं तो बियर पीना उचित होगा।

अतः अगर अच्छे आइडियाज की तलाश करनी है तो बियर अच्छी चॉइस है और अच्छे आइडियाज पर ऊर्जा के साथ काम करना है तो कॉफ़ी बेस्ट ऑप्शन है हम अपने काम के मांग के आधार पर कॉफ़ी या बियर को सेलेक्ट कर सकते है।

रिपोर्ट: डॉ. हिमानी