शेयर करें
Ringworm

दाद एक चर्म रोग है। यह फंगल इन्फेअक्शकन की वजह से होता है। यह बीमारी व्यक्ति की हथेलियों, एड़ियों, सिर की त्वचा, जांघों, बगल और शरीर के किसी भी भाग में हो सकती है। दाद अधिक खुजली करने से बढ़ता है।  इसमें त्वचा लाल हो जाती है और त्वचा पर छोटे छोटे निशान पड़ जाते हैं। यह अवस्था काफी कष्टदायक होती है।

इसे भी पढ़ें: आंखों की करें देखभाल इन घरेलू उपायों से

दाद से जुड़े तथ्य :

  • दाद एक फंगल संक्रमण है जो आपकी त्वचा की ऊपरी परत पर विकसित होता है। इसको टिनिया कॉर्पोरिस भी कहा जाता है। यह ऊपरी त्वचा के साथ एक लाल गोलाकार चकत्ते के रूप में नजर आता है। जिसकी  वजह से  खुजली भी हो सकती  है। इसको फ़ैलाने वाला  कोई वास्तविक कीड़ा नहीं होता है।
  • गर्मियों में दाद होने की संभावना बढ़ जाती है। खासतौर से गुप्तांगों के आसपास यह तेज़ी से बढ़ता है। जो कि थोड़े समय बाद त्वचा पर काले निशान भी छोड़ देता है जिसे एक्ज़िमा कहते हैं। दाद जिस स्थान पर होता है वहां पर अत्यधिक खुजली होती है और जब व्यक्ति इसे खुजलाने लगता है तो यह और फैलने लगता है।
  • हल्के दाद अक्सर ऐंटिफंगल दवाओं के प्रयोग से सही हो जाते हैं जिनकों सीधे त्वचा पर प्रयोग किया जाता हैं। अधिक-गंभीर संक्रमणों के लिए, आपको कई हफ्तों तक ऐंटिफंगल गोलियां लेने की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें: मोतियाबिंद होने के कारण और इसके प्रकार

इसे निम्नलिखित तरीकों से फैलाया जा सकता है:

  • मानव से मानव: दाद अक्सर एक संक्रमित व्यक्ति से त्वचा से त्वचा के संपर्क द्वारा फैलता है।
  • पशु से मानव: दाद पालतू जानवरों द्वारा भी फैलाया जा सकता है। पालतू कुत्ते, बिल्लियों तथा गायों द्वारा भी  दाद फैल सकता है।
  • संक्रमित व्यक्ति या जानवर के प्रयोग की वस्तुओं से : रिंगवर्म उन वस्तुओं या  के संपर्क से फैल सकता है जो एक संक्रमित व्यक्ति या जानवर ने हाल ही में प्रयोक किया हो जैसे कि कपड़ें, तौलिए, बिस्तर , कंघी, और ब्रश आदि ।
  • संक्रमित मिट्टी के संपर्क से :मानव को मिट्टी: दुर्लभ मामलों में, संक्रमित मिट्टी के संपर्क में आने से मनुष्यों में दाद फैल सकता है। अत्यधिक संक्रमित मिट्टी के साथ लंबे समय तक संपर्क से संक्रमण की संभावना सबसे अधिक होगी।

इसे भी पढ़ें: आंखों के भारीपन और थकावट को दूर करने के आसान उपाय

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी