Home प्रेगनेंसी & पेरेंटिंग प्रेग्नेंसी में ये आहार करेंगे आयरन की कमी को दूर

प्रेग्नेंसी में ये आहार करेंगे आयरन की कमी को दूर

by Mahima
pregnancy diet

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कई प्रकार के शारीरिक, हॉर्मोनल और मानसिक बदलावों से झूझना पड़ता है, जिसमें से  उल्टी होना, जी मिचलाना, चक्कर आना सामान्य घटनाएं है, लेकिन प्रेग्नेंसी में अक्सर महिलाओं को खून की कमी भी  देखी गयी है जो की  मां और बच्चे दोनों के लिए ही खतरनाक साबित हो सकती है। भारत में ज्यादातर महिलाओं में प्रेग्नेंसी के दौरान हीमोग्लोबिन का लेवल सामान्य से कम ही पाया जाता है और इसलिए डॉक्टर उन्हें दूसरे-तीसरे महीने से ही आयरन की गोलियां लेने की सलाह देते हैं। आयरन शरीर में हिमोग्लोबिन बनाता है,इसलिए गर्भवती महिलाओं को आयरन से भरपूर चीज खाने की भी सलाह डॉक्टर्स द्वारा दी जाती है।

इसे भी पढ़ें: गर्भावस्था के दौरान क्यों होती है पैरों में सूजन

आइये जानते हैं ऐसे  खाद्य पदार्थ हैं जिनको अपनी डाइट में शामिल करके आयरन की कमी को पूरा किया जा सकता है :

  • प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं को नियमित रूप से अपने आहार में खजूर और सूखे मेवों को शामिल करना चाहिए क्योकि इनके सेवन से  आयरन की कमी दूर होने के साथ साथ शरीर को ताकत भी मिलती है।
  • अंजीर में विटमिन ए, बी1, बी2, कैल्शियम, आयरन, फॉस्फोरस, मैगनीज, सोडियम, पोटैशियम और क्लोरीन पाया जाता है। दो अंजीर को रात को पानी में भिगोकर, सुबह उसका पानी पीने और अंजीर खाने से हीमोग्लोबिन बढ़ता है।
  • पालक में विटामिन ए,बी,सी, लोहा, कैल्शियम, प्रोटीन,कार्बोहाइड्रेट,फाइबर,खनिज पदार्थ, मैग्निशियम, आयरन, अमीनो अम्ल तथा फोलिक अम्ल जैसे तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इसे आप कच्चा और पक्का कर, दोनों तरीकों से खा सकते हैं। पालक का जूस आपके पाचन तंत्र की अच्छे से सफाई करके आपके शरीर में विषाक्त कीटाणुओं से उत्पन्न होने वाले रोगों से रक्षा करता है। पालक में आयरन काफी अधिक मात्रा में होता है अतः प्रेग्नेंसी में इसके सेवन से खून की कमी को पूरा किया जा सकता है।
  • चुकुंदर में मौजूद फॉलिक ऐसिड प्रेगनेंसी में स्वास्थ्यवर्धक होता है । साथ ही इसमें कैल्शियम, सल्फर, पौटाशियम,क्लोरीन, आयोडीन एवं आयरन आदि पाए जाते हैं। ये गर्भवती स्त्री के शरीर में खून की कमी नहीं होने देता जिसके कारण वो सुरक्षित प्रसव के लिए तैयार हो पाती है । यह शिशु के संपूर्ण विकास में भी मदद करता है । इसके अलावा इसके नियमित सेवन से गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को थकावट तथा ऊर्जा की कमी महसूस नहीं होती है।

इसे भी पढ़ें: गर्भावस्था में गैस बनने का कारण

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.