Home लाइफ स्टाइलखानपान दूध से जुड़े कुछ मिथक और सच्चाई

दूध से जुड़े कुछ मिथक और सच्चाई

by Mahima

अधिकतर लोग दूध पीना पसंद नहीं करते है। जब भी दूध पीने कि बात होती है तो वह नाक-भौं सिकोड़ने लगते हैं। दूसरी और काफी लोग यह मानते है कि दूध केवल बच्चों के पीने की चीज होती हैं। दूध कई पोषक पदार्थो जैसे प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नीशियम और विटामिन B का बहुत अच्छा स्रोत माना जाता रहा है।

इसे भी पढ़ें: फल खाने के तुरंत बाद पानी का सेवन, जन्म देता है अनेकों बिमारियों को

आइये जानते है दूध से जुड़े कुछ मिथक और सचाइयों के बारें में :

  • मिथक– पाश्च्युराइज्ड दूध (उबले दूध) की तुलना में कच्चे दूध में अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं।
  • सच्चाई– पाश्च्युराइज्ड (उबले दूध) और कच्चे दूध दोनों में ही पोषक पदार्थो का स्तर बराबर होता है। पाश्च्युरीकरण की प्रक्रिया में दूध को थोड़ी देर के लिए अधिक तापमान (70 डिग्री सेल्सियस) पर गर्म किया जाता है। जिससे दूध में उपस्थित जीवाणु मर जाते है। बल्कि हम यह कह सकते कि पाश्च्युराइज्ड दूध से किसी भी तरह के संक्रमण का खतरा नहीं रहता।
  • मिथक– दूध में पानी मिलाने से उसमें से वसा तत्व कम हो जाते है।
  • सच्चाई- दूध में पानी मिलाने से उसमें उपस्थित पोषक पदार्थो की सांद्रता कम हो जाती है। दूसरे शब्दों में कहें तो वसा के साथ साथ सभी पोषक पदार्थ कम हो जाते है।
  • मिथक– दूध में से वसा बाहर निकाल लेने पर उसका पोषण खत्म हो जाता है।
  • सच्चाई– इस प्रकार के दूध में कम कैलोरी के साथ सभी पोषक तत्व उचित मात्रा में पाए जाते है।
  • मिथक– बहुत से लोगो को लेक्टोस (दुग्ध शर्करा) नहीं पसंद होता है, ऐसे में दूध का सेवन जरुरी नहीं।
  • सच्चाई– दूध पसंद नहीं होने पर आप अन्य दुग्ध उत्पाद जैसे पनीर, बटरमिल्क, दही या चीज का सेवन कर सकते हैं।
  • मिथक– जब कैल्शियम की प्रचुरता वाले और भी उत्पाद हैं तो दूध पीना ही क्यों जरुरी है।
  • सच्चाई– दूध में प्राकृतिक रूप से कैल्शियम पाया जाता है। इसके अतिरिक्त दूध में प्रोटीन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, जिंक और विटामिन B जैसे बहुत से लाभकारी पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसमें पाया जाने वाला विटामिन बी हड्डियों के निर्माण में सहायक होता है।
  • मिथक– दूध को एक संपूर्ण भोजन माना जाता है।
  • सच्चाई– दूध में आयरन, विटामिन C, E और k मौजूद नहीं होते है। अत: स्वस्थ शरीर पाने के लिए केवल दूध पर ही निर्भर रहना ठीक नहीं होता।
  • मिथक– ऐसा माना जाता है कि दूध की आवश्कता केवल बच्चों को होती है, बड़ों को नहीं।
    सच्चाई- शरीर में कैल्शियम की पूर्ति के लिए हर उम्र में दूध पीने की आवश्कता होती है। दूध के सेवन से हड्डियों में क्षरण (आस्टियोपोरोसिस और आस्टियोपोरोटिक फ्रेक्चर) होने कि सम्भाना कम होती है।

इसे भी पढ़ें: किशमिश का पानी पीने से होने वाले स्वास्थ लाभ

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.