शेयर करें

नई दिल्ली। केसर एक ऐसी चीज है जो हर किसी के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन बच्चों के लिए केसर काफी फायदेमंद साबित होता है। छोटे बच्चों का इम्यून सिस्टम बहुत कमजोर होता है। जिस वजह से वह जल्दी बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं।

आज हम आपको नवजात शिशु के लिए केसर के फायदे बताएंगे। इसके इस्तेमाल से बच्चा शारीरिक तौर पर ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी स्वस्थ रहता है।

  • केसर में ‘क्रोसिन’ नाम का तत्‍व पाया जाता है, जो वैज्ञानिक रूप से बुखार को दूर करने में उपयोगी माना जाता है। इसके साथ ही यह एकाग्रता, स्‍मरण शक्ति और रिकॉल क्षमता को भी बढ़ाने का काम करता है।
  • सिर दर्द को दूर करने के लिए केसर का उपयोग किया जा सकता है। सिर दर्द होने पर चंदन और केसर को मिलाकर सिर पर इसका लेप लगाने से सिर दर्द में राहत मिलती है।
  • अक्‍सर नवजात को सर्दी-जुकाम की समस्‍या घेर लेती है। इस समस्‍या से नवजात को बचाने के लिए मां के दूध में केसर मिलाकर उसके नाक और माथे पर मलने से लाभ होता है। या केसर, जायफल और लौंग का लेप बनाकर नवजात की छाती और पीठ पर लगाने से फायदा होता है। सर्दी का प्रकोप कम होता है और उसे आराम मिलता है।
  • केसर को चन्दन के साथ घिसकर इसका लेप माथे पर लगाने से सिर, आंखों और दिमाग को शीतलता मिलती है। इस लेप को लगाने से दिमाग भी तेज होता है।
  • आंखों की परेशानी को दूर करने में भी मददगार होता है केसर। एक हालिया शोध में यह बात सामने आयी है‍ कि जिस प्रतिभागी ने केसर का सेवन किया उसकी नजरें बेहतर रहीं। यह मोतियाबिंद को दूर करता है।
  • अनिद्रा की शिकायत को दूर करने में भी केसर काफी उपयोगी होता है। इसके साथ ही यह अवसाद को भी दूर करने में मदद करता है। रात को सोने से पहले दूध में केसर डालकर पीने से अनिद्रा की शिकायत दूर होती है।