Home स्वास्थ्य टिप्स पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारण

पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारण

by Dr. Himani Singh
इरेक्टाइल डिसफंक्शन

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या जिसे नपुंसकता के रूप में भी जाना जाता है, यौन गतिविधि के दौरान लिंग के निर्माण को बनाए रखने में असमर्थता दर्शाने वाला यौन रोग का एक प्रकार है। कभी कभी इरेक्शन की परेशानी होना, देखा जाये तो चिंता का कारण नहीं है। परन्तु यदि इरेक्टाइल डिसफंक्शन की समस्या अधिकाशतः होने लगे तो यह तनाव का कारण बन सकता है, जो आपके आत्मविश्वास को भी प्रभावित करता है और साथ ही आपके पार्टनर के साथ रिश्तों में भी मत भेद पैदा कर सकता है। इरेक्शन प्राप्त करने या में समस्या एक अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत भी हो सकती है जो स्वास्थ्य दृस्टि से हानिकारक हो सकते हैं।

 इरेक्टाइल डिसफंक्शन के शारीरिक कारण :

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के सबसे आम शारीरिक कारण परिसंचरण और रक्तचाप से संबंधित होते हैं। हृदय रोग, एथेरोस्क्लेरोसिस, उच्च कोलेस्ट्रॉल, और उच्च रक्तचाप सभी लिंग में रक्त प्रवाह की मात्रा को प्रभावित कर सकते हैं। शरीर की अंतःस्रावी प्रणाली हार्मोन का उत्पादन करती है जो चयापचय, यौन कार्य, प्रजनन, मनोदशा और भी बहुत सारी क्रियाओं को नियंत्रित करती है।

मधुमेह एक अंत: स्रावी बीमारी का ही उदाहरण है जिससे आपको नपुंसकता का अनुभव हो सकता है। मधुमेह इंसुलिन हार्मोन का उपयोग करने की क्षमता को प्रभावित करता है। आपकी नसों और रक्त वाहिकाओं को नुकसान पहुंचाकर मधुमेह इरेक्टाइल डिसफंक्शन में योगदान दे सकता है। मोटापा और उपापचयी सिंड्रोम भी रक्तचाप, शरीर की संरचना और कोलेस्ट्रॉल में बदलाव का कारण बन सकते हैं जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन को जन्म दे सकते है। इस रोग में योगदान देने वाली अन्य स्थितियों में नींद की बीमारी, शराब और नशीली दवाओं के दुरुपयोग भी शामिल हैं।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के मनोवैज्ञानिक कारण :

10% से 20% लोगो में इरेक्टाइल डिसफंक्शन मनोवैज्ञानिक कारणों की वजह से हो सकता है। कई
न्यूरोलॉजिक स्थितियां नपुंसकता के जोखिम को बढ़ा सकती हैं। इस अवस्था में मस्तिष्क की तंत्रिकाएं
प्रजनन प्रणाली के साथ सही ताल मेल बैठाने में असमर्थ हो जाती हैं जो आपको इरेक्शन हासिल करने से
रोक सकता है।
नपुंसकता से जुड़े तंत्रिका संबंधी विकारों में शामिल हैं:
 अल्जाइमर रोग
 पार्किंसंस रोग
 मस्तिष्क या स्पाइनल ट्यूमर

इरेक्टाइल डिसफंक्शन

मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस)
 आघात
 मिर्गी
 प्रोस्टेट सर्जरी

अवसाद या चिंता जैसी मानसिक स्वास्थ्य स्थितियां आपके कामेच्छा को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती हैं, जिससे आपके लिए और अधिक मुश्किल हो सकती है।कुछ दवाएं लेने से भी रक्त प्रवाह प्रभावित हो सकता है। तनाव एक प्रमुख कारक होता है क्योंकि यह आपके मस्तिष्क को लिंग में अतिरिक्त रक्त भेजने के संकेतों में हस्तक्षेप कर सकता है। कई मामलों में, मनोवैज्ञानिक मुद्दे बिस्तर पर अच्छे प्रदर्शन की चिंता से भी विकसित हो सकते है।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.