शेयर करें
selected food during pregnancy

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना अत्यंत आवश्यक होता है क्योकि उनके  खानपान का सीधा असर गर्भ में पल रहे बच्चे की सेहत पर भी होता है। जिन महिलाओं का वजन  अधिक  होता है वह अकसर वजन और अधिक बढ़ जाने के खतरे से कम से कम खाने की कोशिश करती है। कम भोजन करना भी गर्भवती महिला और उसके होने वाले बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है। वैसे तो गर्भ धारण करने के समय मोटापा बहुत परेशानी पैदा कर सकता है अतः कोशिश करना चाहिए की गर्भ धारण से पहले ही अपने मोटापे को नियंत्रित कर ले। क्योंकि मोटापे की शिकार महिलाओं को प्रसव के दौरान काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। गर्भावस्था के दौरान जब शिशु का शरीर विकसित होता है तब वह सभी पोषक तत्व को अपनी माँ के शरीर से लेता है। अतः मोटापे की वजह से अगर आप भोजन कम करेंगे तब आपके शिशु को उचित मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाएंगे।

इसे भी पढ़ें: यदि स्वस्थ शिशु को देना चाहती हैं जन्म तो गर्भावस्था के दौरान ना करें शराब का सेवन

आइये जानते है इस अवस्था में मोटी महिलाओं को क्या खाना चाहिए :

  • गर्भावस्था के दौरान मोटी महिलाओं को कोशिश करना चाहिए कि बहुत अधिक वसा वाला भोजन ना करें। क्योंकि वसा वाले भोजन से महिला और होने वाले बच्चे दोनों के स्वास्‍थ्‍य को खतरा रहता है।
  • प्रोटीन, विटामिन और मिनरल से युक्त संतुलित पौष्टिक आहार को भोजन के रूप में लेना चाहिए।
  • दाल, चावल, सब्जियां, रोटी और फलों को रोज के आहार में शामिल करें।
  • दूध का सेवन रोज सुबह-शाम करें।
  • गर्भावस्था में महिला के शरीर में लौह तत्वों की कमी हो जाती है जो की आहार से भी पूरी तरह से नहीं मिल पाता है अतः आयरन, फोलिक एसिड की गोलियों से इसकी पूर्ति करते रहना चाहिए।
  • कॉफी, चाय और कार्बोनेटेड ड्रिक्स की अधिक मात्रा का सेवन नहीं करना चाहिए। क्योकि इसमें पाए जाने वाले कैफीन और अन्य हानिकारक तत्व शिशु के विकास में नुकसान पहुंचाते है।
  • एक गर्भवती महिला को 2500 कैलोरी की आवश्यकता होती है। अतः दिन भर में कम से कम 2500 कैलोरी को भोजन द्वारा जरूर लेना चाहिए इससे अधिक भोजन आपके और आपके शिशु दोनों को नुकसान पंहुचा सकता है।

इसे भी पढ़ें: अगर गर्भधारण करना चाहती हैं तो अपने ओव्यूलेशन के सही समय को जानें

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी