Home हेल्थकोल्ड एंड फ्लू सर्दी, खाँसी और जुकाम के लिए घरेलु उपाय

सर्दी, खाँसी और जुकाम के लिए घरेलु उपाय

by Darshana Bhawsar
cough

सर्दी, खाँसी और जुकाम सभी एक ही कारण से होते हैं लेकिन इनके प्रभाव से शरीर में उर्जा की कमी आ जाती है और शरीर टूट जाता है। आज हम देखेंगे कि सर्दी, खाँसी और जुकाम को घरेलू उपाय से कैसे दूर किया जा सकता है। सर्दी, जुकाम ऐसे रोग हैं जो एक बार हो जाएं तो बार-बार होते हैं और इनकी ही वजह से कई अन्य रोग भी होते हैं। वहीँ खाँसी की मुख्य वजह है सांस की नली में कफ जमना या अवरोध उत्पन्न होना जिसकी वजह से सर्दी, झुकाम ठीक होने के बाद भी खाँसी बनी रहती है। और कई हफ़्तों तक ठीक नहीं होती।

इसे भी पढ़ें: स्तनपान के दौरान ब्रेस्ट कम्प्रेशन के लाभ

अगर आपको भी सर्दी, जुकाम और खाँसी है। और यदि आपकी खाँसी कई हफ़्तों से ठीक नहीं हो रही है तो उस दौरान आपको किसी अच्छे डॉक्टर को जाँच करवाना चाहिए, यह बहुत ही आवश्यक होता है। अगर किसी भी व्यक्ति को सर्दी, खाँसी और जुकाम की समस्या है तो उसे ये काम करना चाहिए।

सर्दी, खाँसी और जुखाम को दूर करने के लिए कई सारे घरेलु उपाय हैं जिनसे बहुत ही जल्दी इनसे राहत मिल सकती है। इसलिए आप घर बैठ कर ही इनका इलाज कर सकते हैं।

  • सर्दी, खाँसी और जुकाम के लिए घरेलु उपाय:
  • गर्म पानी पीना:

गर्म पानी पीने से बहुत ही जल्दी सर्दी, जुकाम और खाँसी में आराम मिलता है। और गरम पानी के गरारे करने से भी आराम मिलता है इसलिए आपको जब भी सर्दी, खाँसी या जुखाम हो आप ये जरूर करें।

  • तुलसी का सेवन:

तुलसी का सेवन करें। तुलसी में अनगिनत आयुर्वेदिक गुण पाए जाते हैं। एवं तुलसी के सेवन से सर्दी, खाँसी और जुकाम में आराम तो मिलता ही है। साथ ही कई अन्य बीमारियाँ भी दूर होती हैं जैसे मधुमेह, चर्म रोग, मुँह से दुर्गन्ध आना इत्यादि। इसलिए प्रतिदिन तुलसी का सेवन जरूर करें।

  • सोंठ वाली चाय:

सोंठ में कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो सर्दी, जुकाम और खाँसी से रोकथाम करने में सहायक होते हैं इसलिए काढ़े और चाय में सोंठ को पीस कर डाला जाता है। इससे बहुत ही जल्दी सर्दी और खाँसी में आराम मिलता है।

  • अदरक और गुड़:

अदरक और गुड़ खाने से सर्दी और खाँसी में तुरंत ही राहत मिल जाती है लेकिन याद रखें इनके सेवन के बाद कुछ देर पानी न पियें। इनके सेवन के बाद पानी पानी पीने से खाँसी और अधिक बढ़ जाती है इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखें।

  • शहद:

शहद को रात को सोने से पहले एक चम्मच खा लें और इसके बाद पानी न पियें और सो जाये। रात भर में आपका सर्दी जुकाम सब नष्ट हो जायेगा। छोटे बच्चों के लिए भी यह उपचार बहुत ही अच्छा माना जाता है।

  • काली मिर्च और अदरक:

अदरक का अर्क निकाल लें और उसमें काली मिर्च का पाउडर मिला लें या काली मिर्च को पीस लें। दोनों को मिलाकर रात को सोते समय खा कर सो जाएं। इससे कैसी भी खाँसी और जुकाम क्यों न हो रात भर में उससे आराम मिल जायेगा।

इन सभी उपचार से सर्दी और जुकाम को रोका जा सकता है। ये सभी घरेलु उपचार हैं एवं आयुर्वेद में भी इनका विशेष योगदान हैं। शहद को तो आयुर्वेद में अहम् भूमिका दी गयी है।

  • सर्दी और खाँसी के कारण:

सर्दी और खाँसी किसी एलर्जी की वजह से या इस संक्रमण से जूझ रहे व्यक्ति के संपर्क में आने से होता है। इसलिए इन बातों का विशेष ध्यान रखना होता है। जब सांस नली में किसी प्रकार की बाधा आती है तब इस प्रकार की परेशानी आती हैं। सर्दी और खाँसी होने के कई अन्य कारण भी हो सकते हैं जैसे:

  • नींद न आना:

नींद न आना तनाव की वजह से भी होता है। और नींद न आने की वजह से सर्दी और खाँसी जैसी समस्याएँ भी होती हैं। पर्याप्त नींद मानव शरीर के लिए बहुत जरुरी होती है। अगर नींद पर्याप्त नहीं होगी तो इससे कई प्रकार की बीमारियाँ होंगी और शुरुआत होगी सर्दी और खाँसी से।

इसे भी पढ़ें: इन घरेलु उपायों से करें अपने शिशु की सर्दी जुकाम से सुरक्षा

  • ठंडा पानी पीना:

अत्यधिक ठंडा पानी पीना और कम पानी पीना भी सर्दी और खाँसी की वजह होता है। इससे गले में खराश उत्त्पन्न होती है और नाक बहना शुरू हो जाती है। यह सर्दी होने के सामान्य लक्षण है और इसके साथ ही खाँसी होना प्रारम्भ हो जाता है। यह खाँसी कई दिनों तक ठीक नहीं होती इसलिए इससे बचकर रहना चाहिए।

  • धूल:

कई लोगों को धूल और मिटटी से एलर्जी होती है और ज्यादा धूल मिटटी में रहने के कारण सर्दी और खाँसी जैसी समस्याएँ उत्त्पन्न होती हैं। इनका शरीर पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है। धूल सांस की नली में अवरोध उत्पन्न करती है।

इसे भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के बाद फिट रहने के लिए सही टिप्स

खाँसी, जुकाम के कारण कई अन्य बीमारियाँ भी हो जाती है। खाँसी शरीर के लिए बिल्कुल भी अच्छी नहीं होती इसलिए इसका इलाज जल्दी से जल्दी करवाना चाहिए। क्योंकि खाँसी से टीवी, खसरा जैसे जानलेवा रोग हो जाते हैं इनसे बचना कई बार मुश्किल हो जाता है। इसलिए इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि खाँसी एक हफ्ते से ज्यादा न हो। सामान्य खाँसी एक हफ्ते में कम होने लगती है लेकिन अगर ऐसा नहीं है तो इसके लिए डॉक्टर कि सलाह जरूर लें।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.