शेयर करें
baby coming teeth

जन्म के लगभग छह से आठ महीने के बाद बच्चों के दांत निकलने लगते हैं। दांत निकलते समय बच्चों को बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है जिसके चलते बाचे चिड़चिड़े हो जाते है, दूध नहीं पीते हैं, रोते रहते हैं। कई बच्चों में पेट दर्द और कब्ज जैसी परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है। दांत निकलने के समय मसूढ़ों में खुजली, सूजन तथा अधिक पीड़ा होती है।

इसे भी पढ़ें: मां के दूध से वंचित नवजात शिशुओं के लिए खुला ‘ह्यूमन मिल्क बैंक’

आइये जानते हैं कौन से उपचारों को अपनाकर आप अपने शिशु के निकलने वाले दांतों के दर्द को कम कर सकते है :

  • 5 मिलीलीटर तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर बच्चों के मसूढ़ों पर लगाने और बच्चे को चटाने से दांत निकलते समय दर्द नहीं होता है।
  • बच्चों के दांत निकलते समय अंगूर के रस में शहद मिलाकर पिलाने से दांत जल्द निकल आते हैं। इससे दर्द कम होता है और दांत स्वस्थ व मजबूत निकलते हैं।
  • एक गिलास पानी में दो चम्मच सौंफ को डालकर उबाल लें फिर इसे छानकर बच्चे को दिन में कम से कम तीन बार पिलाएं।
  • बच्चे को गाजर का रस निकालकर पिलाने से दांत आसानी से निकलते हैं और बच्चे को दूध भी जल्दी पच जाता है।
  • बच्चे को रोज छाछ पिलाते रहने से भी दर्द में राहत मिलती है।
  • ताजे आंवले का रस निकाल कर, उस से मसूढ़ों पर मालिश करने से राहत मिलती हैं।
  • शिशु के मसूढ़ों पर शहद रगड़ना चाहिए, इससे उन्हें आराम मिलता है।
  • यदि बच्चे को दांत निकलते समय उल्टी हो रही है तो उसे एक चम्मच अनार का रस दिन में, 2-3 बार पिलाना चाहिए। इससे बच्चे को उल्टी होना बंद हो जाती है।
  • बच्चे को इस दौरान संतरे का रस, उबला हुआ सेब व पक्का हुआ केला आदि का सेवन करवाना चाहिए।
  • शिशु के मसूड़ों की मालिश करने से भी शिशु को दर्द से राहत मिलती है।

इसे भी पढ़ें: जाने आपका बच्चा क्यों अंगूठा चूसता है

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी