शेयर करें
weigh lifting

वेट लिफ्ट‍िंग का मतलब होता है वजन उठाना। घर पर आप हल्की फुल्के व्यायाम के तौर पर यह करते हैं, लेकिन जिम में खास तौर से इसे व्यायाम में शामिल किया जाता है। वेट लिफ्टिंग अपकी फिटनेस के लिए बहुत फायदेमंद  होता है। कई लोग मानते हैं कि  वेट लिफ्टिंग केवल भारी भरकम और मजबूत शरीर वाले लोग ही कर सकते हैं और यह केवल मसल्स या मजबूत बॉडी बनाने के काम आती है। परन्तु  ऐसा बिलकुल भी नहीं है वेट लिफ्टिंग का अभ्यास करने से बहुत से स्वास्थ संबधित फायदे हैं।

इसे भी पढ़ें: सूर्य नमस्कार को अपनाकर पाएं अनेकों स्वास्थ्य लाभ

जानते हैं वेट लिफ्टिंग करने के फायदे :

कार्यक्षमता में इजाफा: वजन उठाने से काम करने की क्षमता बढती है तथा दौड़ने भागने या किसी भी तरह के एथलेटिक खेल खेलने में मदद मिलती है। वजन उठाने का सबसे सकारात्मक प्रभाव आपकी बाहों पर पड़ता है। बाहें जितनी मजबूत होंगी व्यक्ति उतना ही ज्यादा वजन उठा पायेगा।

ताकत बढ़ती है : वेट लिफ्टिंग शुरू करने के एक से दो महीनो तक आपके शरीर की मासपेशिया खुल जाएगी और फिर आपके शरीर में ताकत का विकास होता  है और धीरे- धीरे  आपके  शरीर में  ताकत का विकास होगा l

आयु लम्बी होती है : देखा जाये तो एक्सरसाइज  करने से आयु बढ़ती है, लेकिन खासतौर पर स्ट्रेंट ट्रेनिंग से आपकी उम्र में कुछ अतिरिक्त सालों का इज़ाफा होता है। यूसीएलए के 2014 की रीसर्च के अनुसार उम्र बढ़ने के बाद भी मांसपेशियों के अधिक होने पर समय से पहले मृत्यु होने की आशंका कम हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सूर्य दर्शन नहीं किसी योग से कम

तनाव कम होता है : वेट लिफ्ट‍िंग का एक बड़ा फायदा यह है, कि आप खुद को तनाव मुक्त महसूस करते हैं। अगर आप नियमित तौर पर इसे अपने व्यायाम में शामिल करते हैं, तो आप आप मानसिक तनाव की समस्या को कोसों दूर कर सकते हैं।

ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या को दूर रखता है: जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है शरीर में मांसपेशियां बननी कम हो जाती है तथा बोन डेंसिटी में भी गिरावट  आने लगती है। ऐसे में वेटलिफ्टिंग से शरीर में वसारहित मसल्स का निर्माण होता है और हड्डियों का घनत्व भी बढ़ता है जिससे ऑस्टियोपोरोसिस जैसे रोग के होने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: योग करें लेकिन जरा संभलकर

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी