Home फिटनेसयोग प्राणायाम को नियमित रूप से करने से होने वाले लाभ

प्राणायाम को नियमित रूप से करने से होने वाले लाभ

by Dr. Himani Singh

प्राणायाम एक संस्कृत शब्द है जिसका शाब्दिक अर्थ है, प्राण या श्वास का विस्तार। प्राणायाम केवल एक साधारण साँस लेने का व्यायाम नहीं है ,यह एक वैज्ञानिक रूप से साँस लेने की प्रक्रिया है जिसके द्वारा प्राण पर नियंत्रण प्राप्त किया जा सकता है। प्राणायाम शारीरिक (आसन) और मानसिक (ध्यान) योग प्रथाओं के बीच की कड़ी है। कई सालों से लोग प्राणायाम का प्रयोग, शुद्धिकरण की एक विधि के रूप में करते है, और प्राचीन काल से ही इसको एक बेहतरीन डिटॉक्सिफाइंग तकनीक माना जाता है।प्राणायाम योग प्रणाली का एक हिस्सा है जो आपको अपनी सांस पर कई अलग-अलग तरीकों से कण्ट्रोल करने का अभ्यास कराता है। प्राणायाम का अभ्यास करते समय सांस को कुशलता से अंदर लेना, बाहर निकालना और बरकरार रखने का प्रयास किया जाता है।

प्राणायाम के लाभ:

 प्राणायाम योग के महत्वपूर्ण घटकों में से एक है जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से शरीर के विभिन्न प्रणालियों के समुचित कार्य को प्रभावित करता है। यदि आप नियमित रूप से प्राणायाम का अभ्यास करते हैं, तो यह श्वसन प्रणाली, संचार प्रणाली, पाचन तंत्र और अंत: स्रावी प्रणाली पर लाभकारी प्रभाव दिखाता है।

 प्राणायाम के स्वास्थ्य लाभ आपके आंतरिक अंगों के उचित कामकाज तक सीमित नहीं हैं। नियमित रूप से अभ्यास करने पर यह आपके शरीर के वजन को कम करने में भी मदद करता है।

 प्राणायाम, को नियमित रूप से किया जाए तो यह ,रक्तचाप के विभिन्न स्तरों के उपचार में बहुत फायदेमंद होता है, यह कम रक्तचाप या उच्च रक्तचाप और हृदय रोग को ठीक करने में लाभकारी होता है।

प्राणायाम

 शरीर से सभी संचित विषाक्त पदार्थों को निकालने के लिए प्राणायाम एक उत्कृष्ट विधि मानी जाती है। हमारे शरीर के विषहरण के लिए योग में कई विधियों में से, प्राणायाम सबसे लोकप्रिय है।

इसे भी पढ़ें: इस डांस को करने से सिर्फ 10 मिनट में घटती है इतनी कैलोरी

 यह आंतरिक शक्ति देता है और आत्मविश्वास लाता है और यह मन की संवेदी व्याकुलता को दूर करता है। मानसिक एकाग्रता में सुधार प्राणायाम के सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभों में से एक है।

 प्राणायाम नाक मार्ग और भरी हुई नाक को साफ करने में मदद करता है।

 साँस लेने के परिणामस्वरूप, ताजा ऑक्सीजन युक्त रक्त (साँस लेने के दौरान) फेफड़े से हृदय तक जाता है। हृदय इसे धमनियों और रक्त वाहिकाओं के माध्यम से शरीर के हर हिस्से में पंप करता है, जहां बदले में यह हर ऊतक और कोशिका में रिसता है। यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और आपके शरीर के सभी हिस्सों तक अधिक ऑक्सीजन / प्राण या ब्रह्मांडीय ऊर्जा पहुँचता है।

 भस्त्रिका नामक प्राणायाम तकनीक का अभ्यास करना साइनसाइटिस के इलाज या रोकथाम का सबसे अच्छा विकल्प होता है।

 प्राणायाम स्वायत्त तंत्रिका तंत्र, सहानुभूति तंत्रिका तंत्र और पैरासिम्पेथेटिक तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता
है। यह तनाव और चिंता को कम करने में मदद करता है। यह अवसाद

इसे भी पढ़ें: प्रदूषण के हानिकारक प्रभावों से छुटकारा दिलाएगा गुड़, जाने कैसे

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.