Home लाइफ स्टाइलखानपान गर्मियों में छाछ का सेवन देता है सुपर कूल एहसास

गर्मियों में छाछ का सेवन देता है सुपर कूल एहसास

by Mahima

गर्मी आते ही धूप में निकलने की हिम्मत ही नहीं होती है, थोड़ी देर धुप में रहने मात्र से ही लगता है कि शरीर की सारी  एनर्जी ख़त्म हो जाएगी, ऐसे में गर्मी के दिनों में अपने आपको तरो ताजा रखने के लिए एनर्जी से भरे ड्रिंक्स का सेवन करना फायदेमंद साबीत होता है।  ऐसे ही एनर्जी से भरा एक ड्रिंक छाछ है जिसके सेवन मात्र से ही गर्मी में आराम मिलता है। गर्मी के मौसम में छाछ को अमृत के समान माना गया है। छाछ को हर उम्र के लोग पी सकते हैं। यह एनर्जी देती है और लू से बचाती है।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में यौन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय

आइये जानते है गर्मियों में छाछ के सेवन से क्या लाभ होते हैं :

  • गर्मी से शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसलिये ऐसे में आपको छाछ का सेवन करना चाहिये। ये पानी की कमी से बचती हैं।
  • छाछ पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। छाछ में हेल्‍दी बैक्‍टीरिया, कार्बोहाइड्रेट्स तथा लैक्‍टोस पाया जाता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। छाछ पीने से शरीर को एनर्जी भी मिलती है।
  • छाछ में सेंधा नमक, भुना पिसा जीरा, पिसी काली मिर्च और पोदीना मिलाकर पीने से आंतो की सूजन ठीक हो जाती है साथ ही इसका सेवन पेट की गर्मी व अन्य समस्याओं से बचाता है। यह तरलता बनाए रखने में भी मददगार होता है।
  • यदि किसी को कब्ज की शिकायत होती है तो छाछ पीना उसके लिए अमृत के सामान है। छाछ में अजवाइन मिलाकर पीने से गैस की समस्‍या दूर होती है। वहीं भुना जीरा और पुदीना मिलाकर पीने से छाछ लीवर और पेट में होने वाली गर्मी में लाभप्रद मानी जाती है।
  • ऊल्टी आने या जी मचलाने पर छाछ में जायफल घिसकर इसके मिश्रण को पीने से लाभ मिलता है। छाछ में शहद मिलाकर नित्य पीने से पीलिया में लाभ होता है।
  • अधिक गर्मी के चलते कई बार आंखों में जलन होने पर छाछ का सेवन शरीर को अंदर से शीतलता प्रदान करता है। अगर आंखों में ज्‍यादा जलन हो रही हो तो छाछ से आंखों पर छींटे डालकर हल्के हाथों से मसाज करें, आंखों को आराम मिलेगा। ऐसे ही त्‍वचा में जलन होने पर भी छाछ को लगाने से फौरन राहत मिलती है ।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं में होने वाली मेनोपॉज की अवस्था क्या है और कितने चरणों में होती है ?

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.