Home लाइफ स्टाइलखानपान इस तरह बनाएं बेल का शरबत, ये हैं इसके फायदे

इस तरह बनाएं बेल का शरबत, ये हैं इसके फायदे

by Mahima

बेल का पेड़ भारतीय संस्कृति में महत्वपूर्ण है, और इसे ज्यादातर मंदिरों के आसपास लगाया जाता है। यह फल बाहर से कठोर और अंदर से मुलायम होता है। अंदर से इसका गूदा मीठा होता है, जिसे आप ऐसे भी खा सकते हैं। इसे अन्य पेय पदार्थों और मीठे जैसे गुड़ या चीनी के साथ मिलाकर भी खाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: मैगी में मिला लेड: बच्चों के लिए है बहुत खतरनाक

बेल के फल को वुड एप्पल भी कहा जाता है जिसमें प्रोटीन, बीटा-केरोटीन, विटामिन, थायमीन (बी1), राइबोफ्लाविन और विटामिन सी होता है। बेल के शरबत को फिट और स्वस्थ रहने के लिए बहुत ही बेहतरीन तरीका माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: जरा सी चुटकी भर हींग के प्रयोग से पाएं अनेकों स्वास्थ्य लाभ

बेल का जूस (शरबत) बनाने की विधि

सामग्री 

बेल का फल
दो लीटर – पानी
एक कप – बर्फ
दो चम्मच – चीनी (और पढ़ें – चीनी खाने के फायदे)
एक चम्मच – नींबू का जूस (वैकल्पिक) (और पढ़ें – नींबू के रस के फायदे)
एक चम्मच – भुना हुआ जीरा पाउडर (वैकल्पिक)

इसे भी पढ़ें: फल खाने के तुरंत बाद पानी का सेवन, जन्म देता है अनेकों बिमारियों को

विधि 

  • सबसे पहले बेल फल को तोड़ें। फिर उसमें से गूदे को चाकू की मदद से निकाल लें।
  • अब एक बर्तन में पानी लें और फिर उसमें गूदे को डाल दें।
  • फिर हाथों को किसी साफ कपड़े या पन्नी से कवर लें और अब गूदे को पानी में मसलें।
  • इस प्रकार, गूदे को तब तक मसलें जब तक उसमें से बीज निकल ना जाए।
  • फिर गूदे को निचोड़ें और उसमें से जूस को निकाल लें और निचोड़ें गए गूदे को अलग रख दें।
  • अब इस जूस को किसी बड़ी छलनी से छानें।
  • जूस को छानने के बाद इसमें चीनी और जीरा पाउडर (वैकल्पिक) को अच्छे से मिलाएं। इसे तब तक मिलाएं, जब तक चीनी मिश्रण में घुल न जाए।
  • चीनी मिलाने के बाद शरबत में नींबू का जूस भी मिलाएं और पूरे शरबत को अच्छे से मिला लें।
  • अब शरबत में बर्फ डालें और इसे ठंडा-ठंडा परोसें।

बेल का शरबत कब पीना चाहिए 

आप बेल के शरबत को हफ्ते में एक बार पी सकते हैं, लेकिन इस शरबत की खुराक अन्य परेशनियों के अनुसार भी दी जा सकती है, जैसे -लू से बचने के लिए आप इसे रोजाना पूरे दिन में एक बार पी सकते हैं। (और पढ़ें – गर्मी में लू से बचने के उपाय)
अगर आपके कान में दर्द है, तो बेल के जूस की दो बूँद कान में डाल सकते हैं। (और पढ़ें – कान दर्द के घरेलू उपाय)

हिचकी से बचने के लिए आप आंवला के जूस और बेल के जूस को बराबर मात्रा में मिलाकर पूरे दिन में दो बार पी सकते हैं।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.