Home लाइफलव एंड रिलेशनशिप इन लक्षणों के आधार पर पहचाने कि कहीं आप सेक्स एडिक्टेड तो नहीं?

इन लक्षणों के आधार पर पहचाने कि कहीं आप सेक्स एडिक्टेड तो नहीं?

by Dr. Himani Singh
Sex life

देखा जाये तो  सेक्स कोई समस्या नहीं है, लेकिन कुछ लोगों के लिए यह एक बड़ा   मुद्दा बन सकता है। यौन लत  से ग्रषित  शब्द का उपयोग अक्सर ऐसे लोगो के लिए किया जाता है जो  सेक्स के प्रति आसक्त होते हैं या असामान्य रूप से तीव्र सेक्स ड्राइव रखते हैं। उनके विचार यौन गतिविधि पर हावी रहते हैं।  कई बार ऐसी अवस्था उनके  स्वास्थ्य और संबंधों के लिए हानिकारक भी साबित हो सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: पुरुषों में यौन शक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय

बलपूर्वक यौन व्यवहार को कभी-कभी हाइपरसेक्सुअलिटी, हाइपरसेक्सुअलिटी डिसऑर्डर या यौन लत भी  कहा जाता है। इस अवस्था को  नियंत्रित करना मुश्किल  साबित हो सकता है। यह अवस्था आपको  परेशान कर सकती है।  यह आपके स्वास्थ्य, नौकरी, रिश्तों या आपके जीवन के अन्य हिस्सों को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। हाइपरसेक्सुअल डिसऑर्डर से  ग्रषित व्यक्ति कल्पनाओं के माध्यम से सेक्स के बारे में सोचते रहते हैं या सामान्य अवस्था से अधिक बार इसको करने का प्रयास करते हैं। यह प्रयास   पोर्न, हस्तमैथुन, सेक्स द्वारा पैसे कमाने  या कई पाटनर्स के साथ सेक्स के रूप में हो सकता है। परिणामस्वरूप, इस प्रकार के लोग  काम और रिलेशनशिप  जैसे  क्षेत्रों के बीच में संकट महसूस कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं में होने वाली मेनोपॉज की अवस्था क्या है और कितने चरणों में होती है ?

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यौन गतिविधि जीवन का एक सामान्य, स्वस्थ हिस्सा है और बहुत से लोग कई यौन साझेदारों के साथ सक्रिय रहने या कई अलग-अलग प्रकार के यौन अनुभव प्राप्त करने का आनंद भी  लेते हैं। हाइपरसेक्सुअलिटी समस्याग्रस्त  तब हो जाती है जब यह किसी व्यक्ति के  संकट का कारण बनती है, इस अवस्था में व्यक्ति खुद को या किसी और को नुकसान पहुंचाने का प्रयास तक कर सकता है।

ऐसे  विकार से ग्रषित  व्यक्ति अपने व्यवहार को छिपाने में कुशल हो सकता है और यहां तक कि पति-पत्नी, भागीदारों, और परिवार के सदस्यों से भी इस विकार कि गुप्त स्थिति रख सकता है। परन्तु कुछ लक्षण जो उस व्यक्ति में मौजूद होते हैं वह ध्यान देने योग्य होते हैं। जो व्यक्ति इस विकार से ग्रषित होता है उसमें  ये लक्षण दिख सकते हैं :

इसे भी पढ़ें: गैस की समस्या से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय

  • बार-बार और तीव्र यौन कल्पनाएं करना और उनपर  नियंत्रण न पाना ।
  • अपने इस व्यवहार को ढंकने के लिए झूठ बोलना।
  • अपने इस व्यवहार  को रोकने या नियंत्रित करने में असमर्थ।
  • यौन व्यवहार के कारण खुद को या दूसरों को खतरे में डालना।
  • कई बार यौन व्यवहार के प्रति प्रेरित महसूस करते हैं, और उसके बाद तनाव मुक्त महसूस करते हैं, परन्तु इसके प्रति अपराध या पछतावा भी महसूस होता हैं।
  • अपनी यौन कल्पनाओं को कम या नियंत्रित करने की असफल कोशिश करने का प्रयास करना ।
  • अन्य समस्याओं जैसे कि अकेलापन, अवसाद, चिंता या तनाव से बचने के लिए यौन व्यवहार का उपयोग करना।
  • यौन व्यवहारों में संलग्न रहने से गंभीर परिणाम का सामना, जैसे किसी और से या किसी और को यौन संचारित संक्रमण देने की संभावना, महत्वपूर्ण रिश्तों की हानि, काम में परेशानी, तनाव या कानूनी समस्याएं हो सकती हैं ।
  • आपको स्वस्थ और स्थिर संबंध स्थापित करने या बनाए रखने में परेशानी का अनुभव हो सकता है ।

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.