Home हेल्थआयुर्वेदिक सर्दियों में आलस और सिरदर्द को दूर करने के लिए सबसे फायदेमंद है आयुर्वेदिक चाय, ऐसे बनाएं

सर्दियों में आलस और सिरदर्द को दूर करने के लिए सबसे फायदेमंद है आयुर्वेदिक चाय, ऐसे बनाएं

by Mahima
herbal tea

सर्दी का मौसम शुरू होते ही लोगों में आलस आने लगता है। जिसके कारण वो तरह-तरह की बीमारी का शिकार होने लगते हैं। अगर आपको भी सर्दियों में आलस सबसे ज्यादा आता है तो आप इन आयुर्वेदिक चाय का सेवन करें। इससे ना ही आपको कोई बीमारी होगी और ना ही आपको आलस आएगा।

इसे भी पढ़ें: अदरक में है औषधीय गुणों का खजाना

आयुर्वेदिक चाय के फायदे

आयुर्वेदिक यानी हर्बल चाय स्वास्थ्य के लिहाज से बहुत फायदेमंद होती है। आम भारतीय चाय में दूध और चीनी के प्रयोग से इसका ज्यादा सेवन सेहत के लिए कई बार नुकसानदायक हो सकता है। जबकि हर्बल चाय को आप अपनी इच्छानुसार दिन में 3-4 कप भी पी सकते हैं। इन चाय की खासियत ये है कि इन्हें पीने से आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और सर्दियों में होने वाले वायरस और बैक्टीरिया से बचाव रहता है।

इसे भी पढ़ें: स्वस्थ दिल का राज सरसों का तेल

तुलसी की चाय

तुलसी एक ऐसा पौधा है जो आपको कही भी आसानी से मिल जाएगा। जिसकी आप चाय बनाकर पी सकते हैं। तुलसी की चाय बनाने के लिए आपको बस इतना करना है कि एक पैन में एक कप पानी लें और इसमें 4-5 तुलसी की धुली हुई पत्तियों को डालकर उबालें। लगभग तीन मिनट के बाद, एक कप में चाय को छान लें। अतिरिक्त लाभ के लिए इस चाय में आप एक चम्‍मच शहद और नींबू का रस डालकर पी सकते हैं। अगर और ज्‍यादा फायदे चाहते हैं तो इलायची और अदरक भी डाल सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: इमली के पत्तों के सेवन से पाएं फैटी लिवर और दिल की समस्याओं से निजात

मुलेठी की चाय

मुलेठी की चाय सर्दियों में होने वाली समस्याएं जैसे- सर्दी, जुकाम, गले में खराश आदि को ठीक करती है। इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि ये चाय लिवर की गंदगी को पूरी तरह साफ करती है, जिससे आपका स्वास्थ्य मेटाबॉलिज्म अच्छा होता है और आप हमेशा स्वस्थ रहते हैं। इस चाय को बनाने के लिए एक चुटकी मुलेठी के पाउडर को उबलते हुए पानी में डालें और उसमे थोड़ी सी चायपत्ती डालें। आप चाहें तो ग्रीन टी भी डाल सकते हैं। इसे 10 मिनट तक उबालें और छान लें। मिठास के लिए इसमें एक चम्मच शहद भी मिला सकते हैं या ऐसे ही पिएं। मुलेठी में कार्बन टेट्राक्लोराइड होता है जिससे शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं।

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.