Home लाइफ घर में सुख समृद्धि का प्रतीक तुलसी का पौधा

घर में सुख समृद्धि का प्रतीक तुलसी का पौधा

by Mahima

भारतीय समाज में कोई ही ऐसा घर होगा जिसके घर में तुलसी का पौधा न लगा हो हिंदू धर्म में तुलसी के पौधों को घर में लगाने की बहुत सी मान्यताएं हैं।  लोगो का मानना है की तुलसी के पौधे के लगाने से घर का वास्तु दोष दूर हो जाता है। वास्तु के अनुसार घर की गलत दिशा में तुलसी का पौधा लगाने से नेगेटिव एनर्जी बनी रहती है, वहीं अगर इसकी दिशा का सही ध्यान रखे तो घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

इसे भी पढ़ें: वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा होना चाहिए घर का नक्शा

आइये जानते है घर में तुलसी के पौधे को लगाने से जुड़े तथ्यों के बारे में :

वास्तु दोष दूर करें : तुलसी का पौधा  वास्तु दोष दूर करने में  बड़ी अहम् भूमिका अदा करता है । तुलसी के पौधे को घर की उत्तर या पूर्व दिशा में रखना शुभ माना जाता है  इससे कई दोष दूर हो जाते है। तुलसी का पौधा घर के दक्षिणी भाग में नहीं लगाना चाहिए, घर के दक्षिणी भाग में लगा हुआ तुलसी का पौधा फायदे के बदले नुकसान का कारण बन सकता है।

इसे भी पढ़ें: मानसून के मौसम में आकर्षक लगने के लिए अपनाए ये टिप्स

बुरी नजर से बचता है : ऐसी मान्यता है कि तुलसी का पौधा होने से घर वालों को बुरी नजर प्रभावित नहीं कर पाती है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, घर के बाहर तुलसी का पौधा लगाने से बुरी आत्माएं घर में प्रवेश नहीं कर पाती। साथ ही, अन्य  प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा सक्रिय नहीं हो पाती है और सकारात्मक ऊर्जा को बल मिलता है।

इसे भी पढ़ें: बारिश के मौसम में किस तरह रखें अपनी सेहत का ख्याल, यहां पढ़ें

औषधि के रूप में इसका प्रयोग : तुलसी  को एक औषधीय पौधा माना जाता है जिसका प्रयोग सर्दी, जुखाम, खासी, दांत रोग और सांस की बीमारी में होता है। तुलसी की पत्तियां शरीर में कफ से होने वाली बिमारियों से बचती हैं साथ ही इसका रोज़ सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। तुलसी के पत्तों के सेवन से मधुमेह , कैंसर और ह्रदय रोग भी दूर हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें: गर्मियों में लू से पाना है छुटकारा तो करें ये काम, नहीं होगा गर्मी का अहसास

रोज करें तुलसी का पूजन : तुलसी के पौधे को वास्तव में देवी लक्ष्मी का रूप माना जाता है, मान्यता है कि हर रोज  शाम को तुलसी के पास दीपक जलाने से  घर में महालक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है।

रिपोर्ट: डॉ.हिमानी

You may also like

Leave a Comment

* By using this form you agree with the storage and handling of your data by this website.